आईआईटी के छात्रों ने किया यूकेजी के छात्र का अपहरण करके कत्ल

उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले में शनिवार को अपहृत किए यूकेजी के छात्र अभिषेक की लाश देर रात खुटहन थाना क्षेत्र के जमुनिया गांव के पास मिली है। पुलिस ने इस मामले में आरोपी के तौर पर आईटीआई के दो छात्रों को गिरफ्त में लिया है।

आरोपियों में से एक छात्र पहले अभिषेक को ट्यूशन पढ़ाता था। पुलिस का कहना है कि उसने दूसरे आरोपी दोस्त के साथ मिलकर अभिषेक का अपहरण किया और फिर मफलर से गला घोंटकर हत्या कर दी। हत्या के बाद दोनों ने चोरी के मोबाइल से फिरौती के लिए भी मैसेज किया था।

एसपी राजकरन नय्यर का कहना है कि शाहगंज बाजार में अभिषेक के घर से थोड़ी दूरी पर किराए के मकान में रहने वाले दोनों आरोपी शिवम श्रीवास्तव और आकाश कुमार आईटीआई के छात्र हैं। कुछ समय पहले तक आरोपी शिवम अभिषेक को ट्यूशन पढ़ाता था। इसलिए उसका अभिषेक के घर अक्सर आना-जाना लगा रहता था।

शनिवार को अभिषेक ट्यूशन के लिए घर से निकला तो रास्ते में उसे आरोपी शिवम मिला। शिवम ने टॉफी दिलाने के बहाने उसे बाइक पर अपने दोस्त और आरोपी आकाश के साथ जमुनिया गांव स्थित पानी टंकी के पास ले गया। वहां अभिषेक ने शोर मचाना शुरू किया जिससे घबरा कर दोनों आरोपियों ने मफलर से गला घोंटकर अभिषेक की हत्या कर दी। उसके बाद शव को पानी की टंकी के नीचे छिपा दिया।

उसके बाद दोनों आरोपियों ने किसी आदमी से एक मोबाइल फोन छीना। उसमें से सिम निकालकर मोबाइल फोन बेच दिया और फिर नया फोन खरीद कर अभिषेक के पिता को फिरौती के लिए संदेश भेजा। अभिषेक की हत्या और संदेश भेजने के बाद से दोनों आरोपी अभिषेक के घरवालों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए उनके घर के आसपास ही घूमते रहे। पुलिस को दोनो पर शक हुआ तो पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया और पूछताछ की। पूछताछ के दौरान दोनों आरोपियों ने पूरी घटना के बारे पुलिस को बताया। पुलिस ने दोनों आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके जेल भेज दिया और अभिषेक के शव का पोस्टमार्टम करवाया।

शाहगंज नगर के अयोध्या मार्ग पर बैंकर्स कॉलोनी निवासी दीपचंद यादव बीबीगंज में पैथोलॉजी चलाते हैं। उनका पुत्र अभिषेक(7) साउथ इंडियन स्कूल में यूकेजी का छात्र था। लॉकडाउन में विद्यालय बंद होने की वजह से पढ़ाई के लिए अभिषेक पास की यादव कॉलोनी में रह रही एक महिला के घर जाकर ट्यूशन पढ़ता था।

शनिवार की सुबह करीब 10 बजे अभिषेक अपने घर से ट्यूशन के लिए गया, लेकिन वहां नहीं पहुंच पाया। काफी देर तक न लौटने पर घर वालों ने खोजबीन शुरू की लेकिन पता नहीं चला। दोपहर करीब तीन बजे पिता के मोबाइल पर मैसेज कर अपहरण की सूचना के साथ सात लाख की फिरौती मांगी गई थी।

Please Share this news:
error: Content is protected !!