दो माह की गर्भवती ने प्रताड़ना से तंग आकर किया सुसाइड, ससुरालियों पर हत्या का आरोप

हरियाणा के पानीपत में घरेलू कहासुनी के चलते विवाहिता ने फांसी लगा जान दे दी। वह दो माह की गर्भवती थी। मृतका ने यह कदम उस समय उठाया जब परिवार निर्माणधीन मकान में काम कर रहा था। इसी दौरान महिला ने दरवाजा बंद कर फांसी लगाई। परिजन उसे अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित किया। मृतका के परिजनों ने दहेज के लिए प्रताड़ित करने सहित अन्य गंभीर आरोप लगाए हैं।

पानीपत के काबड़ी रोड पर विवाहिता बिंदु (28) ने सुसरालियों की मारपीट व दहेज की मांग सहित बेटा नहीं होने के तानों से परेशान होकर फांसी लगाकर जीवन लीला समाप्त कर ली। जानकारी के मुताबिक बीते रोज जब परिजन निर्माणधीन मकान में काम कर रहे थे तो बिंदु ने घर के कमरे में फांसी लगा ली।

परिजन पहले उसे निजी और फिर सामान्य अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन डॉक्टरों ने मृत घोषित किया।

मृतका के परिजनों ने आरोप लगाए हैं कि उसका पति सुनील व अन्य घर के सदस्य मारपीट करते थे और उसे दहेज की मांग के साथ बेटा नहीं होने के ताने भी मारते थे। उन्होंने कहा कि बिंदु ने फांसी नहीं लगाई बल्कि ससुराल के लोगों ने उसकी हत्या की है। बिंदु के भाई-भाभी ने कहा कि बिंदु बिना मां व बगैर भाई की बहन है। जिसके चलते सुनील के परिजन उसे कहते थे की जैसे तेरे पास भाई नहीं है, उसी तरह तेरे को बेटा भी नहीं होगा।

वहीं मृतका के जेठ सुरेंद्र ने बताया की उसके भाई की शादी ढाई साल पहले हुई थी। परिवार में किसी बात को लेकर कोई झगड़ा नहीं था। उन्होंने कहा कि उसके भाई की पत्नी दो माह की गर्भवती थी और बीमार थी। डॉक्टरों ने उसे परहेज के लिए कहा था। इसी को लेकर उसका भाई उसे कई बार समझाता था, लेकिन वह इस और कोई ध्यान नहीं दे रही थी। इसको लेकर उनकी छोटी मोटी कहासुनी होती थी, लेकिन अब उनके भाई की पत्नी ने यह कदम उठाया है जिससे उनके परिवार पर दुखों का पहाड़ टुटा है। मृतका की एक सवा साल के करीब की बेटी है। इस मामले में अभी तक पुलिस को कोई सूचना नहीं दी गई है।


Please Share this news:
error: Content is protected !!