राष्ट्रपति के प्रोटोकॉल ने ली 2 की जान, ट्रैफिक में फंसने से बीमार महिला और CRPF वाहन से कुचलकर गई बच्चे की जान

UP News: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कानपुर दौरे पर हैं। इस दौरान VVIP मूवमेंट ने एक 50 साल की महिला व्यापारी की जान ले ली। दरअसल, शुक्रवार यानी 25 जून की शाम राष्ट्रपति की विशेष ट्रेन के लिए रेलवे क्रॉसिंग पर गोविंदनगर में ट्रैफिक को रोका गया था।

इस दौरान प्राइवेट कार से निजी अस्पताल जा रही पोस्ट कोविड महिला मरीज वंदना भी जाम में फंस गई। लगभग एक घंटे तक रोके गए ट्रैफिक को नॉर्मल होने में आधा घंटा और लग गया। जब तक वंदना अस्पताल पहुंचती, तब तक बहुत देर हो चुकी थी। निजी अस्पताल में डॉक्टर ने उनको मृत घोषित कर दिया।

घर जाकर पुलिस कमिश्नर ने मांगी माफी
वंदना मिश्र (50) के जाम में फंसने से मौत की सूचना पर शनिवार सुबह पुलिस कमिश्नर असीम अरुण और DCP रवीना त्यागी ने दुख जताया। उनके घर पहुंचे कमिश्नर ने उनके परिवार से माफी मांगी। कमिश्नर ने पति शरद मिश्र से कहा, ‘यह ट्रैफिक व्यवस्था की खामी है, जिसके लिए वह माफी मांगते हैं। जाम में मरीज के फंसने की सूचना समय से मिलती, तो उसे पहले ही हॉस्पिटल भेज दिया जाता।’ वंदना के अंतिम संस्कार के दौरान पुलिस कमिश्नर-DCP के अलावा DM अलोक तिवारी भी भैरवघाट पर पहुंचे थे। पुलिस कमिश्नर ने दरोगा समेत 3 सिपाहियों को निलंबित कर दिया है।

पोस्ट कोविड से कर रही थी संघर्ष

  • वंदना के परिजनों ने बताया कि करीब दो महीने पहले कोरोना से ठीक होने के बाद से वंदना की तबीयत ठीक नहीं थी। काफी वजन कम हो जाने के कारण उनको कमजोरी रहती थी। शुक्रवार सुबह हालात ज्यादा खराब होने पर एक निजी अस्पताल में इलाज के लिए उनको ले जाया गया था।
  • शाम को फिर अचानक तबीयत बिगड़ने पर जब वह घर से निकले, तो गोविंद नगर रेलवे फ्लाईओवर पर ट्रैफिक जाम में फंस गए। राष्ट्रपति की स्पेशल ट्रेन गुजरने की वजह से सभी रास्ते बंद कर दिए गए थे।

IIA (महिला विंग) की अध्यक्ष थी वंदना
वंदना इंडियन इंडस्ट्रीज एसोसिएशन (IIA) की अध्यक्ष थीं। वह लगातार 7 साल तक IIA चैप्टर कानपुर की जनरल सेक्रेटरी भी रहीं। अपनी मेहनत से वंदना ने घरेलू किचन मसाला बनने की फैक्ट्री खड़ी की थी।
महिला व्यापारी ममता शुक्ला ने बताया कि समाज सेवा से लेकर महिला उद्यमियों को आगे बढ़ाने में वह लगातार सक्रिय रहती थीं। महिला कल्याण के लिए उन्होंने जरूरतमंद महिलाओं को नौकरी देने को हमेशा वरियता देने का काम किया।

राष्ट्रपति और उनकी पत्नी ने दुख जताया
घटना की सूचना मिलते ही राष्ट्रपति कोविंद और उनकी पत्नी सविता कोविंद ने दुख जताया। राष्ट्रपति की पत्नी ने कमिश्नर को निर्देश दिए हैं कि दोबारा ऐसी स्थिति न पैदा हो इस पर ध्यान दिया जाए।

Get delivered directly to your inbox.

Join 1,139 other subscribers

error: Content is protected !!