गरीबों की नाबालिग बेटियों को शादी के नाम पर राजस्थान भेजता है यह गैंग, डीएम ने दिया जांच का आदेश

बिहार के उग्रवाद प्रभावित रोहतास थाना क्षेत्र के गरीब परिवार की लड़कियों को झांसा देकर राजस्थान में ले जाकर गलत तरीके से शादी करने का एक बड़ा मामला प्रकाश में आया है। जिससे जिलेभर के अधिकारियों के कान खड़े हो गए हैं। आनन-फानन में गठित चार विभागों के अधिकारियों की टीम मामले की जांच में जुट गई है।

हालांकि अब तक जांच में प्रशासन ने रोहतास प्रकरण से भाग रहे एक इनोवा कार को सासाराम नगर थाना में जब्त कर चालक को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जांच में रोहतास थाना क्षेत्र के कल्याणपुर बंजारी पहुंचे अधिकारियों की टीम को कई सारी महत्वपूर्ण जानकारियां अभी मिली है।

इस मामले को लेकर श्रम संसाधन विभाग, चाइल्ड लाइन, अनुमंडल प्रशासन अपने-अपने स्तर से मामले की जांच में जुट गई है।

बताया जाता है कि उग्रवाद प्रभावित कल्याणपुर बंजारी के समीप मिट्टीनुआ मकान में रहने वाले गरीब परिवार की लड़कियों को बहला-फुसलाकर राजस्थान का एक संगठित गिरोह उन्हें शादी के लिए कई प्रकार का लालच देकर राजस्थान ले जाकर रखते हैं।

गुरुवार की देर शाम ग्रामीणों ने तिलौथू चाइल्ड लाइन, परिवर्तन विकास मंच की टीम को सूचना दी कि राजस्थान से एक बस रोहतास पहुंची है। उसके साथ लग्जरी कार सवार एक व्यक्ति है जो कुछ लड़कियों को बहला-फुसलाकर अपने साथ राजस्थान ले जाना चाहता है। पूर्व में यहां की कुछ लड़कियों को शादी के नाम पर झांसा देकर राजस्थान ले जाया जा चुका है।

मिली सूचना के बाद परिवर्तन विकास मंच की टीम ने इसकी सूचना जिले के वरीय अधिकारियों को देते हुए मामले की जांच शुरू की। कई घरों के लोगों से पूछताछ के बाद प्रशासन को यह अंदेशा है कि एक बड़ा संगठित गिरोह रोहतास थाना क्षेत्र से लड़कियों को शादी का झांसा देकर राजस्थान में ले जाते हैं।

डीडीसी सह प्रभारी डीएम ने श्रम अधीक्षक को जांच का दिया आदेश
डीडीसी सह प्रभारी डीएम सुरेन्द्र प्रसाद ने श्रम अधीक्षक सत्य प्रकाश को पूरी टीम के साथ स्थल पर जाने का निर्देश दिया। तत्पश्चात श्रम अधीक्षक चाइल्ड लाइन कर्मियों के साथ कल्याणपुर बंजारी पहुंचे। पूरी रात वे राजस्थान से आई टीम की ट्रैकिंग करते रहे।

इसी बीच राजस्थान से आए लोगों को इसकी भनक मिल गई थी। यही कारण है कि राजस्थान से आई टीम जहां बस को लेकर दूसरे रास्ते से भागने में सफल रही। वहीं प्रशासन को चकमा देकर भाग रहे लग्जरी कार चालक को श्रम अधीक्षक की टीम ने सासाराम नगर थाना क्षेत्र में पकड़कर पुलिस को सौंप दिया।

इनोवा कार आरजे 36 यूबी 5454 को जब्त कर चालक को हिरासत में लेकर पूछताछ शुरू कर दी है। चाइल्ड लाइन तिलौथू, रोहतास थानाध्यक्ष, रोहतास बीडीओ व श्रम विभाग की टीम कल्याणपुर बंजारी पहुंच कर मिट्टीनुमा घर में रहने वाले सभी परिजनों से बारी-बारी से पूछताछ की है।

कई घरों के लोगों से पूछताछ के बाद प्रशासन को यह अंदेशा है कि एक बड़ा संगठित गिरोह रोहतास थाना क्षेत्र से लड़कियों को शादी का झांसा देकर राजस्थान में ले जाते हैं। इसके लिए परिजनों को मोटी रकम भी देते हैं। ऐसे ही एक नाबालिक लड़की को सात महीने पहले राजस्थान की टीम ले गी थी। जिसके बाद से उसका माता-पिता से संपर्क टूट चुका है। 24 घंटे से इस मामले की जांच में जुटी श्रम अधीक्षक के साथ श्रम विभाग के अधिकारी रविंद्र कुमार, मोहन सिंह, राजेश सिंह व ओमप्रकाश सिंह ने मामले की जांच कर अधिकारियों को रिपोर्ट दी है।

बताया जाता है कि नाबालिग बच्चियों की शादी राजस्थान में अधिक उम्र के पुरुषों से कराई जाती है। संगठित गिरोह के तार पंचायत प्रतिनिधियों तक भी जुड़े हैं। अधिकारियों का साफ कहना है कि जो बच्चे नाबालिग हैं उन्हें राजस्थान भेजने के लिए बालिग का प्रमाण पत्र गलत तरीके से पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा बनाया जाता है। श्रम अधीक्षक सत्य प्रकाश ने बताया कि मामले की जांच के लिए राजस्थान के बेवार डीएम को पत्र लिखा जा रहा है।

इनोवा गाड़ी पर चारों तरफ भारतीय जनता पार्टी का लोगो व निशान लगा हुआ है। जो कानूनन अपराध है। इस मामले में श्रम अधिकारी रविंद्र कुमार को सासाराम नगर थाना में प्राथमिकी दर्ज कराने का निर्देश दिया है। साथ ही इस मामले को लेकर एक विशेष स्तर पर जांच करने के लिए डीएम को लिखा जा रहा है।


error: Content is protected !!