कफन चोरी कर ब्रांडेड कंपनी का लेवल लगा कर दोबारा बेच देते थे, सात आरोपी गिरफ्तार

श्मशान घाट से कफन चोरी कर बेचने वाले सात लोगों को बागपत की बड़ौत कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार किया है। आरोप है कि ये लोग कपड़ा चोरी कर उस पर ब्रांडेड कंपनी के लेबल लगाने के बाद दोबारा उसे बाजार में बेच देते थे। पुलिस ने आरोपियों के पास से बड़ी संख्या में कपड़े भी बरामद किए हैं।

बड़ौत इंस्पेक्टर अजय शर्मा ने बताया कि जिले में रविवार को लॉकडाउन के दौरान जब पुलिस चेकिंग कर रही थी, तभी एक गाड़ी ब्रांडेड कपड़ों से भरी मिली। पुलिस को कुछ संदिग्ध लगा तो पुलिस ने कपड़ों का बिल मांगा। आरोपी बिल नहीं दिखा पाए। पुलिस ने सख्ती की तो मामले से पर्दा उठता चला गया और पता चला कि ये लोग कफन चोरी कर उनको बेचने वाले हैं। ये लोग श्मशान घाट से मुर्दों के कफन चुराकर उसे धुलते थे और फिर उसमें नामी ब्रैंड का टैग लगाकर बेच देते थे। पुलिस ने एक के बाद एक सात लोगों को गिरफ्तार किया और उनके पास से 520 कफन, 127 कुर्ते, 140 कमीज, 34 धोती, 12 गर्म शॉल, 52 साड़ी, तीन रिबन के पैकेट, 158 ग्वालियर के स्टिकर बरामद किए हैं।

दो साल से चल रहा था कारोबार
पुलिस पुछताछ में पता चला है कि मुर्दों के कफन बेचने के आरोपी करीब दो साल से इस व्यापार से जुड़े है। इन लोगों ने पिछले साल भी कोरोना काल के दौरान यह व्यापार जारी रखा था। पुलिस ने सभी आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

ये है कफन चोर
पकडे गये सभी आरोपी बडौत के ही रहने वाले है। जिसमें प्रवीण कुमार जैन पुत्र श्रीपाल जैन, आशीष जैन उर्फ उदित जैन पुत्र प्रवीण, श्रवण कुमार शर्मा पुत्र राममोहन, ऋषभ जैन पुत्र अरविन्द, राजू पुत्र ईश्वर, बबलू पुत्र वेदप्रकाश, शाहरूख खान पुत्र मोबीन शामिल हैं।

error: Content is protected !!