तूफान की गति धीमी पड़ी, राज्य में देर रात पहुंचेगा, उदयपुर और जोधपुर संभाग में भारी बारिश की आशंका

अरब सागर से उठा चक्रवाती तूफान ताऊ ते गुजरात से निकलकर राजस्थान की तरफ बढ़ रहा है। अब इसकी गति धीमी पड़ने लगी है। यह मंगलवार देर रात तक राजस्थान पहुंचेगा। तूफान के कमजोर पड़ने से अब 40-50 किमी प्रतिघंटे की रफ्तार से ही हवा चलेगी। पहले अनुमान था कि हवा की गति 60 किमी तक रह सकती है। मौसम विभाग ने इस सिस्टम के कारण उदयपुर और जोधपुर संभाग के कुछ इलाकों में भारी बारिश की आशंका जताई है।

मौसम विभाग के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि सिस्टम के प्रभाव के कारण मंगलवार देर रात से बुधवार सुबह के बीच बांसवाड़ा, भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, डूंगरपुर, प्रतापगढ़, राजसमंद, सिरोही, उदयपुर, जालौर और पाली में भारी बारिश हो सकती है। इसके अलावा जयपुर, अजमेर, कोटा और भरतपुर संभाग के भी कई जिलों में बुधवार दोपहर और देर शाम तेज बारिश का अनुमान है।

सुरक्षा के लिए SDRF की टीमें तैनात 
उदयपुर-जोधपुर संभाग के कई जिलों में भारी बारिश की चेतावनी को देखते हुए प्रशासन ने जगह-जगह राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल (SDRF) की टीमें तैनात कर दी हैं। डूंगरपुर-बांसवाड़ा में लोगों से घर से बाहर न निकलने की अपील की गई है। बिजली गुल होने की आशंका को देखते हुए प्रशासन ने सभी अस्पतालों में जेनरेटर और ऑक्सीजन का बैकअप तैयार किया है।

अमित शाह ने CM गहलोत से बात की
केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने तूफान को लेकर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से बात की है। उन्होंने राज्य सरकार की तैयारियों की जानकारी लेने के साथ केंद्र से हर तरह की मदद का भरोसा दिया है। उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति के लिए NDRF की टीमें तैयार हैं।

मौसम विभाग के मुताबिक, तूफान राजस्थान के दक्षिण-पश्चिमी क्षेत्र से प्रवेश करेगा। इसके कारण उदयपुर, सिरोही, डूंगरपुर, पाली और जालौर में 40-50 किलोमीटर गति से तेज हवा चलेगी। इसके साथ ही तेज बारिश हो सकती है। राजधानी जयपुर में आसमान में घने बादल छाए हुए हैं। सुबह से रिमझिम बारिश हो रही है।

यही स्थिति अजमेर, टोंक, भीलवाड़ा, राजसमंद, चित्तौड़गढ़, अलवर में बनी हुई है। इन जिलों में कई जगह हल्की बूंदाबांदी हो रही है। इससे पहले सोमवार देर रात उदयपुर, पाली, डूंगरपुर, बांसवाड़ा में कई जगह तेज हवा के साथ बारिश हुई। बदले मौसम के कारण दिन और रात के न्यूनतम तापमान में भी गिरावट आई है।

भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़ में भी बारिश 
चक्रवात के प्रभाव के कारण बीती रात से सुबह 8 बजे तक भीलवाड़ा और चित्तौड़गढ़ में झमाझम बारिश हुई। भीलवाड़ा में 50 मिमी, चित्तौड़गढ़ में 24 मिमी बारिश हुई। इनके अलावा उदयपुर में 20.6, निवाई (टोंक) 20, बूंदी में 14, सवाई माधोपुर में 16, पाली में 6 मिमी पानी बरसा। फलौदी, बीकानेर, चूरू, जयपुर, जोधपुर सहित कई जगहों पर भी बारिश हुई।

बारिश के बाद पारा नीचे आने से गर्मी कम हो गई। अजमेर में रात का तापमान 20 डिग्री से नीचे चला गया। इसी तरह भीलवाड़ा, टोंक, बूंदी, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, पाली और जयपुर में भी न्यूनतम तापमान 20 से 21 डिग्री सेल्सियस के बीच रहा।

बुधवार तक रहेगा चक्रवात का असर
मौसम विभाग के निदेशक राधेश्याम शर्मा ने बताया कि चक्रवात का मंगलवार को सबसे ज्यादा असर उदयपुर के अलावा जोधपुर संभाग के कुछ इलाकों में देखने को मिलेगा। उदयपुर संभाग के डूंगरपुर, बांसवाड़ा क्षेत्र में 200 मिमी या उससे ज्यादा बारिश होने की आशंका है। इसके अलावा चित्तौड़गढ़, पाली, सिरोही, जालौर में भी भारी बारिश हो सकती है।

चक्रवात का मूवमेंट दक्षिण-पूर्व की तरफ बढ़ेगा तो अजमेर, जयपुर, कोटा और भरतपुर संभाग के कई जिलों में बुधवार को तेज बारिश होने की आशंका है। 20 मई बाद चक्रवात का असर खत्म होने लगेगा।

दौसा में सुबह से शुरू हो गई बारिशदौसा में मंगलवार सुबह हवा के साथ रिमझिम बारिश का दौर शुरू हो गया। सुबह 9 बजे बाद बारिश और तेज हो गई। इससे तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई है। सुबह 10 बजे न्यूनतम तापमान 21 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया है। दूसरी ओर प्रशासन भी अलर्ट मोड पर है। कलेक्टर समेत आपदा प्रबंधन से जुड़े अधिकारी बदलते मौसम पर नजर बनाए हुए हैं।

सवाई माधोपुर में रातभर रिमझिम बारिश
सोमवार रात से ही शहर में रिमझिम बारिश जारी है। इससे लोगों को गर्मी से राहत मिली। जिले में कुछ जगहों को छोड़कर सभी जगह बूंदाबांदी से मौसम सुहाना बना रहा। अब तक जिला मुख्यालय सहित जिले में तेज हवा का दौर शुरू नहीं हुआ है। मंगलवार सुबह अधिकतम तापमान 31 डिग्री और न्यूनतम तापमान 24 डिग्री दर्ज किया गया।

error: Content is protected !!