छह लोगों की हैवानियत; छात्रा से किया गैंगरेप और दोस्त बचाने आए दोस्त की किया अधमरा

उत्तर प्रदेश के बरेली में नेशनल हाईवे पर बड़ा बाईपास किनारे छह हैवानों ने बड़ी वारदात को अंजाम दे दिया। दोस्तों के साथ घूमने निकली अनुसूचित जाति की छात्रा को आरोपित खेत में खींच ले गए, सामूहिक दुष्कर्म किया। 31 मई को दोपहर तीन बजे हुई घटना के बाद छात्रा किसी तरह घर पहुंची। शनिवार को बड़ी बहन से आपबीती बयां की। घटनास्थल से अहलादपुर पुलिस चौकी करीब पांच किमी दूर है। देर रात पुलिस ने भगवानपुर धीमरी गांव निवासी धर्मेंद्र, अनुज, विशाल, नीरज, अमित व नरेश के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म, हत्या का प्रयास, जान से मारने की धमकी देने का मुकदमा दर्ज कर लिया।

बरेली शहर की एक कालोनी में रहने वाली छात्रा ने इंटर पास किया है।

उसने बताया कि 31 मई को दो दोस्तों के साथ घूमते हुए बड़ा बाईपास किनारे भगवानपुर धीमरी गांव के पास पहुंच गई थी। वहां स्कूटी खड़ी कर तीनों आपस में बात कर रहे थे, इतने में छह युवक आ गए। वहां आने की वजह पूछने लगे। उसी दौरान तीन युवकों ने छात्रा से छेड़खानी शुरू कर दी। उसके दोस्तों ने विरोध किया तो पीटा। यह देखकर एक दोस्त स्कूटी लेकर भाग निकला, जबकि दूसरे दोस्त व छात्रा को आरोपित घेरे रहे।

इस बीच आरोपितों ने देखा कि राहगीर आ सकते हैं, इसलिए छात्रा व उसके दोस्त को जबरन सड़क से नीचे सूखी नहर में ले गए। वहां उसके दोस्त को डंडों से पीटकर अधमरा कर दिया। इसके बाद छात्रा को पीटते हुए खेत में खींच ले गए। वह बचने के लिए चीखी तो एक युवक ने हाथ से मुंह बंद कर दिया। दुष्कर्म करने के बाद सभी आरोपित वहां से फरार हो गए।

घटनास्थल पर पहुंची पुलिस, ग्रामीणों के बयान लिए : शनिवार दोपहर को छात्रा के स्वजन ने शिकायत की तब एसपी सिटी रविंद्र कुमार ने सीओ श्वेता यादव को मौके पर भेजा। घटनास्थल पर कुचली हुई फसल आदि देखकर, ग्रामीणों के बयान लेने के बाद देखकर पुलिस ने माना कि घटना हुई है। अब आरोपितों की पहचान की जा रही।

तहरीर में छह नाम : छात्रा की ओर से दी गई तहरीर में कहा कि आरोपितों को पहले से नहीं जानती थी, मगर वारदात के बाद वे आपस में नाम लेकर बात कर रहे थे। उसी आधार पर छह नाम पुलिस को बताए। उसके दोस्त ने भी पुलिस को बयान दर्ज कराए। बरेली के एसपी सिटी रविंद्र कुमार ने बताया कि तहरीर के आधार पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। शिकायत मिलते ही सीओ को मौके पर भेजा था। आरोपित उसी गांव के हैं, जिनकी गिरफ्तारी के लिए टीमें लगाई गई हैं।


error: Content is protected !!