पंजाब पुलिस ने महज तीन दिन में सुलझाई हत्या की गुत्थी, चौकीदार की हत्या केस में दो काबू

Punjab News: गांव बघाणा में 20 जून को ईंट भट्ठे के चौकीदार की हत्या के मामले में पुलिस दो आरोपितों को गिरफ्तार कर तीन दिन के भीतर इस केस को सुलझा लिया है।

यही नहीं पुलिस ने आरोपितों की तरफ से वारदात में इस्तेमाल किए गए हथियार और लूट के ट्रैक्टर को भी बरामद कर लिया है। पुलिस ने आरोपित की पहचान मूसा निवासी गांव बेला चंबा हिमाचल प्रदेश और सुखविदर सिंह उर्फ लक्की निवासी गांव गुजराता फगवाड़ा जिला कपूरथला के रूप में बताई है। जबकि, तीसरा आरोपित बलजीत सिंह निवासी ग्राम रामपुर सुनड़ा अभी फरार है।

जिला कपूरथला के एसएसपी हरकमलप्रीत सिंह खख ने वीरवार को प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि 19-20 जून की मध्यरात्रि कुछ अज्ञात लोगों ने गांव बघाना में ईंट भट्ठे में काम करने वाले चौकीदार देस राज की हत्या कर न्यू हालैंड 3630 ट्रैक्टर लूट लिया था।

उन्होंने बताया कि यह हत्या और डकैती का अंधा मामला था जो मृतक देस राज की पत्नी उषा निवासी पुर्रा, मध्य प्रदेश के बयान पर दर्ज किया गया था। एसएसपी खख ने बताया कि एसपी सर्बजीत सिंह बहिया और डीएसपी परमजीत सिंह के नेतृत्व में थाना रावलपिडी, सीआइए स्टाफ फगवाड़ा और पुलिस चौकी पांछटा के कर्मचारियों पर आधारित टीम का गठन किया गया था। उन्होंने बताया कि इस टीम ने मामले को सुलझाने के लिए अलग-अलग एंगल से जांच शुरू की। जांच के दौरान घटना स्थल से मिले कुछ सुराग से पुलिस को आरोपित मूसा और सुखविदर तक पहुंचने में मदद मिली।

एसएसपी ने बताया कि दोनों आरोपितों को पुलिस चेकिग के दौरान गांव दुग्गा- रावलपिडी पुली से गिरफ्तार किया गया। उन्होंने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ में बताया कि यह साजिश गांव रामपुर सुनड़ा के रहने वाले बलजीत सिंह ने रची थी, जिसके साथ मिलकर उन्होंने रात को लोगों के घरों व अन्य प्रतिष्ठानों पर लूटपाट करने वाला गिरोह बनाया हुआ है। एसएसपी ने कहा कि गिरोह का सरगना बलजीत सिंह अभी फरार है, उसे भी जल्द काबू कर लिया जाएगा।

आल्टो कार की तलाश जारी

उन्होंने कहा कि पुलिस टीम इस वारदात में प्रयोग हुई आल्टो कार नंबर (पीबी36-जे-7255) की भी तलाश कर रही है। उन्होंने कहा कि पुलिस ने गिरफ्तार आरोपी द्वारा चिन्हित स्थान से चोरी का ट्रैक्टर न्यू हालैंड, अन्य सामान जैसे बैंक और आधार कार्ड और देस राज को मारने के लिए इस्तेमाल हथियार बरामद किए गए हैं।

रिमांड के दौरान अन्य मामलों का भी चल सकता है पता

एसएसपी ने कहा कि पुलिस टीम गिरफ्तार आरोपियों को मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश करेगी और इस मामले की आगे की जांच के लिए उनके पुलिस रिमांड की मांग करेगी। उन्होंने कहा कि पुलिस रिमांड के दौरान पूछताछ में कुछ और अनसुलझी डकैतियों का भी खुलासा होने की उम्मीद है।

Share This News:

Get delivered directly to your inbox.

Join 61,628 other subscribers

error: Content is protected !!