बीडीओ द्वारा प्रताड़ित अनुसूचित जाति की महिला पर दबाब बनाने की मुहिम शुरू

प्रधानों को समझाता सचिव गुलाब

हिमाचल में अपराध करना, अपराध को न्यायोचित ठहराना और भीड़ इक्कठी करके खुद को निर्दोष बताने की परंपरा घर करने लगी है। ना तो यहां कानून कोई अहमियत रखता नजर आ रहा है और ना न्याय प्रणाली। जहां देखो, न्याय प्रणाली, न्यायालयों और कानून व्यवस्था का मजाक बनता नजर आने लगा है। पुलिस की कानून के पालन में लापरवाही इससे भी बड़ा भद्दा मजाक है। ऐसा ही ताजा मामला मंडी के करसोग से निकल कर सामने आया है। जहां बीडीओ ने चार दिन पहले एक अनुसूचित जाति की महिला को जातिसूचक शब्दों से प्रताड़ित किया। पुलिस, एसडीएम और डीएसपी ने कोई कार्यवाही नही की तो मजबूरन पीड़ित महिला को मुख्यमंत्री संकल्प सेवा में फ़ोन करके शिकयत दर्ज करवाई। तब जाकर पुलिस ने बीडीओ के खिलाफ अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में प्राथमिकी दर्ज करवाई।

देखें पूरा वीडियो और जाने कैसे षड्यंत्र रचा जा रहा है।

जानकारी के मुताबिक आज बीडीओ करसोग के प्रेस कांफ्रेंस रखी थी। जहां बीडीओ करसोग ने खुद को निर्दोष बताया और मामले को कहीं और जोड़ने की कोशिश करते दिखे। इसी मामले में कुछ और वीडियो सामने आए है, जिसमें करसोग विकस खंड के बहुत से प्रधान नजर आ रहे है और करसोग विकास खंड का पंचायत सचिव गुलाब प्रधानों को समझाता नजर आया। पंचायत सचिव ने वीडियो में बाकायदा सभी को बताया कि क्या कहना है और क्या नही। इस वीडियो से साफ पता चलता है कि सभी प्रधान किस मंशा से वहां इक्कठे हुए थे। वीडियो में साफ झलक रहा है कि विकास खंड करसोग के सचिव गुलाब के नेतृत्व में पीड़ित महिला को प्रताड़ित करने की मंशा से इक्कठे हुए थे। जबकि कानून के मुताबिक किसी भी अनुसूचित जाति के व्यक्ति या पीड़ित को इस तरह आरोपी बनाना या बदनाम करना अपराध है। लेकिन अभी तक पुलिस द्वारा पीड़ित महिला को प्रताड़ित करने वालों के खिलाफ कोई कार्यवाही नही की गई।

पीड़ित महिला के खिलाफ इक्कठा हुए विकास खंड करसोग के प्रधान

अब देखना यह है कि जब मामला मीडिया में उठ गया है तो इसके बाद पुलिस, प्रशासन और सरकार इस मामले में क्या कदम उठाते है। पुलिस पीड़ित के संरक्षण के लिए इक्कठे हुए प्रधानों और सचिवों के खिलाफ मामला दर्ज करते है या नही।

सैहब सोसाइटी वेलफेयर वर्कर यूनियन आई महिला के समर्थन में

उधर शिमला से सैहब सोसाइटी वेलफेयर वर्कर यूनियन बीडीओ द्वारा पीड़ित महिला के समर्थन में सामने आ गई है। सोसाइटी के अध्यक्ष ने कहा है कि अगर आरोपी बीडीओ को 24 घंटों में गिरफ्तार नही किया जाता तो सोसाइटी महिला के समर्थन में सड़कों पर उतरेंगे।

error: Content is protected !!