बंधक बना लिए चुनाव कर्मी, दोनों उम्मीदवारों ने जारी कर दिए विजेता के प्रमाणपत्र


हिमाचल प्रदेश के कांगड़ा जिले के इंदौरा विकास खंड की बसंतपुर पंचायत में प्रधान पद की मतगणना के दौरान मत बराबर रहने पर दो बार पर्ची डाली गई, लेकिन प्रत्याशी के न मानने पर माहौल तनावपूर्ण हो गया। हारे हुए प्रत्याशी के समर्थकों ने अधिकारी और अन्य कर्मचारियों को सारी रात पंचायतघर में रखा और खिलाफ नारेबाजी करते रहे। सरकारी वाहनों के टायरों की हवा निकाल दी गई। बसंतपुर पंचायत में मंगलवार रात को प्रधान पद के लिए मतगणना चल रही थी। दोनों प्रत्याशियों के मत बराबर रहे। एआरओ ने पर्ची डालकर प्रत्याशी सिद्धांत मन्हास को विजेता घोषित किया। दूसरे पक्ष ने इसे मानने से इंकार कर दिया। माहौल बिगड़ता देख उच्चाधिकारियों को सूचित किया गया। एसडीएम इंदौरा सोमिल गौतम, बीडीओ कर्म सिंह नरयाल और इंदौरा थाना पुलिस ने मौके पर पहुंचकर भीड़ को शांत करवाया।

दो उमीदवारों के विजय प्रमाण पत्र

एआरओ ने सभी प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में एक बार फिर दोनों पक्षों की सहमति से लिखित में दस्तावेज बनाते हुए टॉस करते हुए पर्ची डाली। फिर से प्रत्याशी सिद्धांत मन्हास की पर्ची निकली। इसके बाद विजयी प्रत्याशी को आरओ ने प्रमाणपत्र जारी कर दिया। इसके बाद विजयी उम्मीदवार घर लौट गए, लेकिन प्रत्याशी के समर्थकों ने प्रशासनिक अधिकारियों और कर्मचारियों को सारी रात पंचायतघर में घेरे रखा। प्रशासन ने सारी रात चले ड्रामे के बाद बुधवार सुबह हारे हुए प्रत्याशी कुलदीप कुमार को विजयी घोषित कर दिया और प्रमाण पत्र जारी कर दिया। इसके बाद पंचायत घर से निकले।अब दोनों पक्ष अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। सिद्धांत मन्हास ने सैकड़ों समर्थकों के साथ एसडीएम इंदौरा कार्यालय में जाकर न्याय की मांग की।

क्या कहते हैं अधिकारी
एसडीएम इंदौरा सोमिल गौतम ने बताया कि कानून व्यवस्था का जायजा लेने गए थे। जहां तक चुनाव प्रक्रिया का सवाल है, उसकी पूरी जिम्मेदारी चुनाव करवा रहे एआरओ और आरओ की बनती है। दोनों प्रत्याशी अपनी जीत का दावा कर रहे हैं। एआरओ की रिपोर्ट के बाद अगली कार्रवाई होगी।

बीडीओ इंदौरा कर्म सिंह नरयाल ने बताया कि माहौल बिगड़ता देख रात भर पंचायत घर में प्रशासनिक अधिकारियों के साथ डटे रहे। किसी तरह से हल निकालने की कोशिश की गई, लेकिन प्रशासन किसी भी नतीजे तक प्रशासन नहीं पहुंच पाया। इसकी जानकारी उच्चाधिकारियों को दी गई है।

जिलाधीश कांगड़ा राकेश प्रजापति ने बताया कि इंदौरा बीडीओ कार्यालय से रिपोर्ट मांगी है। रिपोर्ट आने के बाद निर्वाचन आयोग को भेजी जाएगी। उसके बाद मिले निर्देशों के अनुसार आगामी होगी।

Please Share this news:
error: Content is protected !!