छह दिन के बच्‍चे को माता-पिता ने 3.60 लाख रुपये में बेचा, फिर गढ़ी अपहरण की कहानी

पुलिस ने एक व्यक्ति और उसकी पत्नी को गिरफ्तार किया है। इन पर अपने छह दिन के बच्चे को नि:संतान दंपति को बेचने का आरोप है। यही नहीं, इसने बाद में बच्‍चे की अपहरण की कहानी गढ़ पुलिस को गुमराह भी किया। यह जानकारी गुरुवार को अधिकारियों ने दी।

अध‍िकारियों ने बताया कि बच्चे का जन्म आठ जून को गुरुग्राम के नारायणा अस्पताल में हुआ था। हालांकि, पूजा देवी (22) और उसके पति गोविंद कुमार (30) ने बच्चे को तभी बेचने का मौखिक सौदा कर लिया था जब पूजा गर्भवती थी।

अधिकारियों ने कहा कि दंपति ने अपने बच्चे को 3.60 लाख रुपये में विद्यानंद यादव (50) और रामपरी यादव (45) को बेच दिया जो बिहार के मधुबनी जिले के निवासी हैं। इस बारे में 12 जून को खरीद-बिक्री समझौते पर हस्ताक्षर किए।

जांच के दौरान पता चला कि विद्यानंद ने गोविंद से अपने रिश्तेदार रमन कुमार यादव और उसके दोस्त हरपाल सिंह के माध्यम से संपर्क किया था। पुलिस ने बताया कि दोनों दंपति और मध्यस्थों को गिरफ्तार कर लिया गया है। बच्चे को यादव दंपति से छुड़ा लिया गया है। उसके बारे में बाल कल्याण समिति निर्णय करेगी।

पुलिस के मुताबिक, विद्यानंद ने गोविंद और उसकी पत्नी से बच्चा खरीदने के लिए तीन लाख रुपये में अपनी जमीन बेची थी। बच्चे के जन्म से पहले विद्यानंद ने स्पष्ट कर दिया था कि सौदा तभी वैध होगा जब उसे बेटा होगा।

बच्चे के जन्म के बाद खरीदने वालों ने चेक से भुगतान किया, लेकिन गोविंद उसे अपने खाते में जमा नहीं करा पाया क्योंकि ये पोस्ट डेटेड चेक था। पुलिस उपायुक्त (दक्षिण) अतुल ठाकुर ने कहा कि उसने रमन और हरपाल से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने संभवत: उसका नंबर ब्लॉक कर दिया था। इसके बाद उसने अपहरण का आरोप लगाकर पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।

error: Content is protected !!