90 हजार के लिए 9 साल की बच्ची की हत्या, पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुआ खुलासा

यहां के हंबड़ां के मुल्लांपुर रोड स्थित काका राम हरि चंद खल फैक्टरी में सगी मां और सौतेले पिता ने 9 साल की बच्ची की इसलिए हत्या कर दी, क्योंकि उसकी मौत के बाद उन्हें बीमा कंपनी से 90 हजार रुपये मिलते। वो रुपये उन्हें पहले से खरीदकर रखे प्लाट की कीमत का भुगतान करने में इस्तेमाल करने थे। उनका मंसूबा था कि बच्ची की मौत के बाद वो चुपचाप उसका संस्कार कर देंगे और किसी को कानोंकान उसकी खबर भी नहीं होगी, मगर पोस्टमार्टम रिपोर्ट ने उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया। अब दोनों पुलिस की गिरफ्त में हैं। पुलिस ने अदालत से उनका तीन दिन का रिमांड हासिल करके कड़ी पूछताछ करने में जुटी हुई है।

इंस्पेक्टर सतवंत सिंह ने बताया कि आरोपितों की पहचान नवांशहर के बंगा रोड स्थित गांव मलपुरा निवासी नरिंदर पाल तथा उसकी पत्नी पिंकी के रूप में हुई।

मृतका भारती पिंकी के पहले पति से औलाद थी। मूलरूप से फरीदकोट के सादिक से सटे गांव डौड निवासी पिंकी की शादी मानसा के सरदूलगढ़ निवासी पवन कुमार के साथ हुई थी। जिससे 2012 में उसने भारती को जन्म दिया, मगर भारती 8 महीने की ही थी कि जब 2013 में पिंकी और पवन कुमार के बीच जबरदस्त झगड़ा हुआ।

पिंकी उसे छोड़ भारती समेत लुधियाना आ गई। उसे पता था कि लुधियाना में उसे कमाकर खाने लायक काम काज मिल जाएगा। वो जेल रोड इलाके में किराये का मकान लेकर रहने लगी। नरिंदर उस इलाके में खल फैक्टरी की गाड़ी का माल उतारने के लिए आया करता था। वहीं दोनों के बीच प्रेम संबंध बन गए और 2014 में दोनों पति-पत्नी के तौर पर रहने लगे, जिससे उनके यहां एक बेटा हुआ, जो 6 साल का है।

नरिंदर पिंकी की पहली शादी से बेटी भारती को पसंद नहीं करता था। उसके कारण दोनों के बीच अकसर लड़ाई झगड़ा हो जाता था। घर की कलह को खत्म करने के लिए पिंकी ने अपने भाई मंगा राम को बेटी देने की पेशकश की, मगर भाई ने पिंकी को यह बोलकर भारती को अपने पास रखने से मना कर दिया कि उसके अपने भी बच्चे हैं। जिसके बाद यह दंपति उसे ठिकाने लगाने के लिए योजनाएं गढ़ने लगे। उन लोगों ने भारती का 90 हजार रुपये की बीमा कराया। उसके बाद 2019 में दोनों ने गांव भूखड़ी कलां में 80 वर्ग गज का एक प्लाट 3 लाख रुपये में खरीदा। जिसकी 1.49 लाख की वो किश्तें दे चुके हैं। बाकी किश्तें देना उनके लिए मुश्किल हो रहा था।

दंपति भारती से पहले ही दुखी था। जीवन बीमा पालिसी की रकम हासिल करने के लिए दोनों ने साजिश के तहत 19-20 जून की रात चुन्नी से गला घोंट कर उसकी हत्या कर दी। दिखावे के लिए दोनों उसे अस्पताल भी लेकर गए। मगर पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद दोनों की कलई खुल गई। हंबड़ां चौकी इंचार्ज हरपाल सिंह ने बताया कि दोनों से की जा रही पूछताछ में और भी खुलासे होने की संभावना है।

Share This News:

Get delivered directly to your inbox.

Join 1,139 other subscribers

error: Content is protected !!