आगरा में शराब पीने से दस लोगों की मौत मामले में तीन एसएचओ समेत नौ पुलिस कर्मी निलंबित

आगरा के फतेहाबाद के डौकी गांव और आसपास के क्षेत्रों में संदिग्ध नकली शराब पीने से करीब दस लोगों की मौत होने के बाद तीन थाना प्रभारियों सहित नौ पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया है।

यह जानकारी पुलिस अधिकारियों ने बृहस्पतिवार को दी। वहीं, आबकारी विभाग ने भी बृहस्पतिवार को तीन आबकारी सिपाहियों को निलंबित किया। साथ ही दो आबकारी निरीक्षकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए रिपोर्ट शासन को भेजी गई है। इस मामले में पुलिस ने नकली शराब पीने से चार व्यक्तियों की मौत की पुष्टि करते हुए कहा कि छह अन्य की मौत के कारण का पता लगाने के लिए जांच की जा रही है।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, आगरा, राजीव कृष्ण ने कहा, ”इस मामले में तीन एसएचओ सहित नौ पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। हमने सरकार को दोषी आबकारी अधिकारियों और पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश भी भेजी है।”उन्होंने कहा, ”फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी की रिपोर्ट में जांच के लिए भेजे गए चार विसरा नमूनों में मिथाइल अल्कोहल की मौजूदगी की पुष्टि हुई है।” उन्होंने कहा कि चार लोगों की मौत नकली शराब पीने से हुई। घटना के बाद बुधवार को एडीजी और मंडलायुक्त ने गांवों का दौरा किया था और लोगों से बात की थी। इसके बाद तीन थाना प्रभारियों सहित नौ पुलिसकर्मियों को निलंबित किया गया। इसके बाद बृहस्पतिवार को आबकारी विभाग ने कार्रवाई की। एडीजी जोन राजीव कृष्ण ने बताया कि शराब पीने से ताजगंज, डौकी और शमसाबाद क्षेत्र में मौत हुई है।

उन्होंने बताया कि इस मामले में कार्रवाई करते हुए थाना ताजगंज के प्रभारी निरीक्षक उमेशचंद्र त्रिपाठी, चौकी इंचार्ज एकता कुलदीप मलिक, बीट सिपाही देवरी अरुण कुमार, थाना डौकी के प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार, बीट सिपाही कौलारा कलां सोमवीर, मुख्य आरक्षी जंगजीत सिंह, शमसाबाद के एसओ राजकुमार गिरि, गांव गढ़ी जहान के बीट सिपाही उदय प्रताप और गांव महरमपुर के बीट सिपाही श्याम सुंदर को निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि जांच में सेक्टर तीन फतेहाबाद के आबकारी निरीक्षक संजय कुमार विद्यार्थी, सेक्टर सात ताजगंज के आबकारी निरीक्षक रजनीश कुमार पांडेय, तीन आबकारी सिपाही विशाल कुमार शमसाबाद, राजेश कुमार डौकी और अमरजीत तेवतिया ताजगंज को भी प्रथम दृष्टया जांच में दोषी पाया गया है।

उन्होंने कहा कि शराब की बिक्री कहां-कहां होती है, इसके लिए आबकारी निरीक्षक जिम्मेदार होते हैं और वे कार्रवाई करते हैं। उन्होंने कहा कि उनकी लापरवाही से शराब की बिक्री हुई और इनके निलंबन की संस्तुति की गयी है। वहीं उप आबकारी आयुक्त जैनेंद्र उपाध्याय ने बताया कि मामले की जांच के बाद आबकारी सिपाही अमरजीत तेवतिया, विशाल कुमार और राजेश कुमार को निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने बताया कि इसके अलावा दो आबकारी निरीक्षकों के खिलाफ कार्रवाई के लिए रिपोर्ट शासन को भेज दी गयी है। उपाध्याय ने बताया कि उन्होंने अपने स्तर से पूरे मामले की जांच के आदेश दिये हैं और शाम तक निरीक्षकों पर भी कार्रवाई हो सकती है।गौरतलब है कि आगरा में सोमवार और मंगलवार को कौलारा कलां में तीन, बरकुला में एक, नगला देवरी में चार लोगों की मौत और बुधवार को शमसाबाद में दो भाईयों की मौत हो गयी थी। इस मामले में संदिग्ध नकली शराब से मौत होने के आरोप लगाये गये थे।

error: Content is protected !!