इंसानियत सबसे बड़ा धर्म; पानीपत में 10 दिन की बच्ची को फेंक गए मां बाप, मुस्लिम महिला ने पिलाया दूध

इंसानियत सबसे बड़ा धर्म है। पानीपत की महिला ने ऐसा ही उदाहरण दुनिया के सामने पेश किया है। वधावाराम कालोनी में एक घर के बाहर सीढ़ी पर 10 दिन की बच्ची को कोई छोड़कर फरार हो गया। मुस्लिम महिला ने बच्ची को रातभर अपने पास रखा और दूध पिलाया। सुबह पुलिस को शिकायत दी और बच्ची को सामान्य अस्पताल के एसएनसीयू वार्ड (स्पेशल न्यू बोर्न केयर यूनिट) में दाखिल कराया।

डॉक्टरों के अनुसार बच्ची का एक हाथ टूटा हुआ है। शरीर पर लाल दाने निकले हुए हैं। वधावाराम कालोनी की मरजीना ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह वीरवार रात करीब 11 बजे बाथरूम करने के लिए ऊपर मकान से नीचे आई थी।

उसे गली में बच्चे के रोने की आवाज सुनाई दी। घर का दरवाजा खोला तो सीढ़ी पर एक बच्ची रो रही थी। उसने उठाकर देखा तो 8 से 10 दिन की लड़की थी। रात को उसने स्वजनों के साथ मिलकर आसपास क्षेत्र में बच्ची के माता-पिता के बारे में पता करने का प्रयास किया, लेकिन सफलता नहीं मिली। इस पर उसने बच्ची को दूध पिलाकर सुला दिया।

मरने के लिए फेंक गए थे मां-बाप

शुक्रवार सुबह भी बच्ची के स्वजनों का पता नहीं चल पाया। बच्ची को उसके घर के बाहर कोई मरने के लिए फेंक कर भाग गया है। वह भाई अफरोज को बुलाकर लाई और थाने में शिकायत दी। इस बारे में किला थाना प्रभारी महीपाल ने बताया कि अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। आसपास के सीसीटीवी कैमरों की भी जांच की जा रही है। नजदीक के निजी अस्पतालों का भी रिकॉर्ड खंगाला जा रहा है। वहीं इस बारे में बाल कल्याण समिति के सदस्य डॉ. मुकेश आर्य ने बताया कि डॉक्टरों से बच्ची के स्वास्थ्य के बारे में पता किया जाएगा। अगर बच्ची स्वस्थ है तो उसे कैथल के अडॉप्शन सेंटर में भेजा जाएगा।

जिले में कब-कब मिली लावारिस बच्चियां

30 जनवरी 2016 को सेक्टर-12 में एक महीने की बच्ची मिली थी।

27 फरवरी 2016 को सेक्टर-25 स्थित नाले में दो जुड़वां नवजात बच्चियों के शव मिले थे।

14 सितंबर 2016 को सेक्टर-12 में एक डाक्टर के घर के बाहर जुड़वा नवजात बच्चियां मिली।

17 नवंबर 2016 को जीटी रोड पर एसडी कालेज के बच्ची मिली।

21 अप्रैल 2017 को पानीपत के अर्जुन नगर में दो महीने की मृत बच्ची मिली थी।

13 मई 2018 में मॉडल टाउन पार्क में एक महिला छह दिन की बच्ची को छोड़ गई थी।

17 सितंबर 2018 को माजरी स्टेशन के पास मिली 20 दिन की नवजात बच्ची मिली।


error: Content is protected !!