मोदी बोले, हम ‘फ़ोर्स फ़ॉर ग्लोबल गुड’ बाइडेन को भारत आने का दिया न्यौता

अमेरिका के व्हाइट हाउस में शुक्रवार को भारतीय समयानुसार देर रात क्वाड देशों की बैठक हुई। बैठक खत्म होने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी न्यूयॉर्क के लिए रवाना हो गए।

जहां पीएम मोदी आज (25 सितंबर) संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के 76वें सत्र को संबोधित करने वाले हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऑस्ट्रेलिया और जापान के अपने समकक्षों के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन द्वारा आयोजित क्वाड नेताओं के पहले व्यक्तिगत शिखर सम्मेलन में भाग लिया और कहा कि उनका दृढ़ विश्वास है कि चार लोकतंत्रों का समूह ‘फोर्स फॉर ग्लोबल गुड’ के रूप में कार्य करेगा और हिंद-प्रशांत के साथ-साथ पूरी दुनिया में शांति और समृद्धि सुनिश्चित करेगा।

पीएम मोदी ने इस दौरान कहा, “पहली फिजिकल क्वाड समिट की ऐतिहासिक पहल के लिए राष्ट्रपति जो बाइडन को धन्यवाद। हम चार देश पहली बार 2004 की सुनामी के बाद इंडो-पैसिफिक क्षेत्र की मदद के लिए एक साथ आए थे। आज जब विश्व कोरोना वायरस महामारी का सामना कर रहा है, तो क्वाड के रूप में हम एक बार फिर मिलकर मानवता के हित में जुटे हैं। हमारा क्वाड वैक्सीन इनीशिएटिव हिंद-प्रशांत क्षेत्र के देशों की मदद करेगा।”

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, “अपने साझा लोकतांत्रिक मूल्यों के आधार पर क्वाड ने सकारात्मक सोच, सकारात्मक नजरिए के साथ आगे बढ़ने का निर्णय लिया है। सप्लाई चेन हो या वैश्विक सुरक्षा हो, जलवायु के मुद्दे पर कार्रवाई हो या कोविड रिस्पॉन्स या फिर तकनीक में सहयोग; इन सभी विषयों पर मुझे अपने साथियों से चर्चा कर बहुत खुशी होगी। हमारा क्वाड एक तरह से फोर्स फॉर ग्लोबल गुड की भूमिका में काम करेगा। मुझे विश्वास है क्वाड में हमारा सहयोग हिंद-प्रशांत क्षेत्र और विश्व में शांति और समृद्धि सुनिश्चित करेगा।”

गौरतलब है कि नवंबर 2017 में, भारत, जापान, अमेरिका और ऑस्ट्रेलिया ने भारत-प्रशांत सामरिक क्षेत्र में चीन की बढ़ती सैन्य उपस्थिति के बीच महत्वपूर्ण समुद्री मार्गों को किसी भी प्रभाव से मुक्त रखने हेतु एक नई रणनीति विकसित करने के लिए क्वाड की स्थापना की थी।

अपने शुरुआती संबोधन में जो बाइडन ने कहा कि कोविड से लेकर जलवायु संबंधी साझा चुनौतियों से निपटने के लिए दुनिया के चार लोकतंत्र एक-साथ आए हैं। प्रधानमंत्री मोदी ने सम्मेलन के दौरान कहा, ‘मुझे भरोसा है कि हमारे सहयोग से दुनिया और हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति स्थापित होगी और समृद्धि आएगी। मेरा पूरा विश्वास है कि हमारा क्वाड गठबंधन दुनिया की बेहतरी के लिए एक ताकत के रूप में काम करेगा। हम वर्ष 2004 की सुनामी के उपरांत हिंद-प्रशांत क्षेत्र में क्षेत्रीय सहयोग के लिए पहली बार साथ आए हैं।’

उन्होंने कहा, ‘आज, जब दुनिया कोविड-19 के खिलाफ लड़ रही हैं, हम क्वाड के हिस्से के तौर पर एक बार फिर मानवता के लिए साथ आए हैं। हमारी क्वाड टीका पहल बृहद तौर पर हिंद-प्रशांत क्षेत्र के देशों की मदद करेगी।’

उन्होंने कहा कि ‘हमारे साझा लोकतांत्रिक मूल्यों के आधार पर, क्वाड ने सकारात्मक सोच और सकारात्मक दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़ने का फैसला किया है।’ प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘चाहे वह आपूर्ति श्रृंखला हो या वैश्विक सुरक्षा, जलवायु कार्रवाई या कोविड प्रतिक्रिया, या प्रौद्योगिकी में सहयोग, मुझे क्वाड में अपने सहयोगियों के साथ चर्चा करने में खुशी होगी।’

जो बाइडन को भारत आने का दिया न्योता
विदेश मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन को भारत आने के लिए आमंत्रित किया है। पीएम मोदी ने कहा कि नई दिल्ली ‘जल्द से जल्द और आपसी सहुलियत’ के साथ अमेरिकी नेता की यात्रा के लिए तत्पर है।

क्वाड बैठक: पीएम मोदी बोले- हम ‘फोर्स फॉर ग्लोबल गुड’, हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एकसाथ काम करेंगे

error: Content is protected !!