Treading News

मोदी सरकार को कृषि कानूनों जैसे अग्निपथ योजना भी वापिस लेने पड़ेगी: राहुल गांधी

दिल्ली: हाल ही में मोदी सरकार ने सेना भर्ती में बड़ा बदलाव किया। जिसके लिए अग्निपथ स्कीम शुरू की गई है। इसके तहत युवाओं को 4 साल के लिए तीनों सेनाओं में भर्ती किया जाएगा।

फिर उन्हें एक निश्चित फंड देकर रिटायर कर दिया जाएगा। इस योजना का देशभर में विरोध हो रहा है। साथ ही राजनीतिक दल भी युवाओं के समर्थन में आ गए हैं। अब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस स्कीम को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

राहुल गांधी ने ट्वीट कर लिखा कि 8 सालों से लगातार बीजेपी सरकार ने ‘जय जवान, जय किसान’ के मूल्यों का अपमान किया है। मैंने पहले भी कहा था कि प्रधानमंत्री को काले कृषि कानून वापस लेने पड़ेंगे। ठीक उसी तरह उन्हें ‘माफीवीर’ बनकर देश के युवाओं की बात माननी पड़ेगी और ‘अग्निपथ’ को वापस लेना ही पड़ेगा। इससे पहले राहुल ने लिखा था कि अग्निपथ – नौजवानों ने नकारा, कृषि कानून- किसानों ने नकारा, नोटबंदी- अर्थशास्त्रियों ने नकारा, GST- व्यापारियों ने नकारा। देश की जनता क्या चाहती है, ये बात प्रधानमंत्री नहीं समझते क्योंकि उन्हें अपने ‘मित्रों’ की आवाज के अलावा कुछ सुनाई नहीं देता।

प्रियंका ने कही ये बात
वहीं प्रियंका गांधी ने भी युवाओं का वीडियो शेयर किया है। उन्होंने लिखा कि आर्मी भर्ती की तैयारी करने वाले ग्रामीण युवाओं का दर्द समझिए। 3 साल से भर्ती नहीं आई, दौड़-दौड़ के युवाओं के पैरों में छाले पड़ गए, वे निराश-हताश हैं। युवा एयरफोर्स भर्ती के रिजल्ट और नियुक्ति का इंतजार कर रहे थे, सरकार ने उनकी स्थाई भर्ती, रैंक, पेंशन, रुकी भर्ती, सब छीन लिया। मैंने 29 मार्च 2022 को रक्षा मंत्री को पत्र लिखकर युवाओं की इन मांगों पर ध्यान देकर तुरंत हल निकालने का निवेदन किया था, लेकिन सरकार ने युवाओं की आवाज को कोई महत्व ही नहीं दिया।