समुद्र में कागजात बहा रहा था मेहुल चोकसी तभी हुआ अरेस्ट, क्यूबा भागने का था प्लान, जानें कैसे हक्का-बक्का रह गया भगोड़ा


RIGHT NEWS INDIA


पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) घोटाले का आरोपी भगोड़ा हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी डोमिनिका में पकड़ा गया है। सूत्रों के मुताबिक, मेहुल चोकसी डोमिनिका से क्यूबा भागने की फिराक में था, उसी दौरान उसे डोमिनिका से दबोच लिया गया। माना जा रहा है कि जिस वक्त मेहुल चोकसी पुलिस की गिरफ्त में आया, उस वक्त वह समुद्री बीच पर कुछ अहम दस्तावेजों को नष्ट कर रहा था। बता दें कि इंटरपोल ने उसकी गिरफ्तारी के लिए येलो नोटिस जारी कर रखा था और अब उसके भारत प्रत्यर्पण की तैयारियां हो रही हैं। इधर, एंटीगुआ के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउनी ने भी इशारा कर दिया है कि उसे सीधा भारत भेजा जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमने डोमिनिका से कहा है कि वो गैरकानूनी रूप से डोमिनिका में प्रवेश करने पर मेहुल चोकसी पर कार्रवाई करे और उसे हमें सौंपने के बदले, सीधे भारत को प्रत्यर्पित कर दे।

बातचीत में डोमिनिका पुलिस ने कहा कि फिलहाल मेहुल चोकसी उनकी कस्टडी में है। डोमिनिका पुलिस ने कहा कि उसे नॉर्थ डोमिनिका के ऐसे इलाके से पकड़ा गया, जहां एक भी एयरपोर्ट नहीं है। माना जा रहा है कि उसने नाव के सहारे ही डोमिनिका में एंट्री ली। स्थानीय पुलिस ने आगे बताया कि मेहुल चोकसी को डोमिनिका की राजधानी रोज के कैनफील्ड बीच पर देखा गया था। उस दौरान वह समूद्री बीच में कुछ दस्तावेजों को बहा रहा था। उसकी इस संदिग्ध गतिविधियों को देखकर पुलिस को शक हुआ और उसने पूछताछ की। जब पुलिस वालों ने मेहुल चोकसी से डोमिनिका आने का मकसद पूछा तो वह हक्का-बक्का रह गया और उसने जवाब देने से इनकार कर दिया।

फिलहाल, मेहुल चोकसी जिन कागजात को समुद्री बीच में बहा रहा था, वह क्या थे और क्या नहीं, इसका खुलासा नहीं हो पाया है। बताया जा रहा है कि दस्तावेजों की तलाश के लिए पेशेवर गोताखोरों को तैनात किया गया है। शुरुआती पूछताछ में यह बात सामने आई है कि मेहुल चोकसी डोमिनिका नाव के जरिए आय था और यहां कुछ समय रुकने के बाद क्यूबा भागने की कोशिश में था।

इधर, एंटीगुआ और बरबुडा के प्रधानमंत्री गैस्टन ब्राउनी ने कहा कि डोमिनिका में पकड़े गए भगोड़ा हीरा व्यापारी मेहुल चोकसी को भारत प्रत्यर्पित किया जाएगा और भारतीय अधिकारी डोमिनिका में उन लोगों के संपर्क में हैं। बता दें कि एक दिन पहले यह खबर आई थी कि चौकसी एंटीगुआ-बारबुडा से लापता हो गया है। वहां की मीडिया के मुताबिक, पुलिस रविवार से चोकसी की तलाश कर रही थी। चौकसी आखिरी बार रविवार शाम 5.15 बजे देखा गया था। इसके बाद उसके खिलाफ इंटरपोल येलो नोटिस जारी किया गया था। इसके तहत पड़ोसी मुल्क डोमिनिका ने उसे पकड़ लिया।

एएनआई को दिए इंटरप्यू में प्रधानमंत्री ब्राउनी ने कहा कि डोमिनिका मेहुल चोकसी के प्रत्यर्पण पर सहमत हो गया है और एंटीगुआ उसे वापस स्वीकार नहीं करेगा। एंटीगुआ के प्रधानमंत्री ब्राउनी ने कहा कि उन्होंने डोमिनिका में पीएम स्केरिट और कानून प्रवर्तन से मेहुल चोकसी को एंटीगुआ नहीं लौटाने का अनुरोध किया है, जहां उन्हें नागरिक के रूप में कानूनी और संवैधानिक सुरक्षा प्राप्त है।

बता दें कि 13500 करोड़ रुपये के पीएनबी घोटाले का आरोपी चौकसी जनवरी 2018 में विदेश भाग गया था। बाद में पता चला कि वह 2017 में ही एंटीगुआ-बारबुडा की नागरिकता ले चुका था। पीएनबी घोटाले की जांच कर रही है केंद्रीय जांच ब्यूरो और प्रवर्तन निदेशालय चौकसी के प्रत्यर्पण की कोशिश में जुटी हैं। वह खराब सेहत का हवाला देकर भारत में पेशी पर आने से इनकार कर चुका है। इस घोटाले का मुख्य आरोपी चौकसी का भांजा नीरव मोदी लंदन की जेल में है।


Advertise with US: +1 (470) 977-6808 (WhatsApp Only)


error: Content is protected !!