बिरसा मुंडा के वंशजों समेत कई विभूतियों को किया गया समानित,सोरेन ने कहा, वीरभूमि है झारखंड

Jharkhand Foundation Day: झारखंड स्थापना दिवस (Jharkhand Foundation Day) के मौके मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने कहा कि झारखंड (Jharkhand) के लोगों ने ऐसे समय में अपने अधिकारों के लिए लड़ाई लड़ी है, जब देश के नागरिकों ने आजादी का सपना भी देखना शुरू नहीं किया था. सोरेन ने राज्य के स्थापना दिवस के मौके पर कहा कि झारखंड एक छोटा राज्य है लेकिन इसका अपना इतिहास है. सीएम ने कहा कि, ”देश की आजादी का सपना देखने से पहले यहां के लोगों ने जल, जंगल और जमीन के लिए लड़ाई लड़ी. झारखंड के वीर सपूतों को अपने देश और राज्य के गौरव के लिए लड़ने से कभी डर नहीं लगा… झारखंड को वीरभूमि के नाम से जाना जाता है.” इस दौरान भगवान बिरसा मुंडा (Birsa Munda) के वंशजों को राज्यपाल और सीएम ने सम्मानित भी किया. इसके अलावा इस साल 3 पद्मश्री विभिूतियों और अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त लोक कलाकार पद्मश्री मुकुंद नायक को भी सम्मानित किया गया.

बिरसा मुंडा के वंशजों को किया सम्मानित
झारखंड राजधानी रांची के धुर्वा स्थित झारखंड मंत्रालय (प्रोजेक्ट भवन) सभागार में राज्यपाल रमेश बैस और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) ने बिरसा मुंडा (Birsa Munda) के वंशज सुखराम मुंडा (Sukhram Munda) और कान्हू मुंडा (kanhu Munda) को सम्मानित किया.

इन्हें भी किया गया सम्मानित
इस दौरान अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त लोक कलाकार और पद्मश्री से सम्मानित मुकुंद नायक के अलावा नागपुरी गायक पद्मश्री मधु मंसूरी हंसमुख, छऊ नृत्य गुरु पद्मश्री शशधर आचार्य और डायन कुप्रथा के खिलाफ आवाज बुलंद करने वाली पद्मश्री छुटनी देवी (Chutni Devi) को भी सम्मानित किया गया.

पीएम मोदी ने किया उद्घाटन
बता दें कि, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने बिरसा मुंडा (Birsa Munda) की जयंती के मौके पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए रांची (Ranchi) में भगवान बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय का उद्घाटन किया था. इस दौरान अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा था कि, आज से हर साल देश 15 नवंबर यानी भगवान बिरसा मुंडा के जन्म दिवस को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाएगा.

error: Content is protected !!