कोरोनाः महाराष्ट्र में 24 घंटे में 66,159 नए मामले, 15 मई तक लागू रहेंगी लॉकडाउन जैसी पाबंदियां

राज्य में 14 अप्रैल से लोगों की आवाजाही और कई अन्य गतिविधियों पर रोक है. यह रोक 30 अप्रैल तक लगाई गई थी. इन पाबंदियों से जरूरी सेवाओं को छूट दी गई है.नई दिल्ली. महाराष्ट्र सरकार ने बृहस्पतिवार को लॉकडाउन जैसी पाबंदियों को 15 मई तक बढ़ा दिया, ताकि राज्य में कोरोना वायरस महामारी के प्रसार पर रोक लगाई जा सके. मुख्य सचिव सीताराम कुंटे की तरफ से जारी आदेश में कहा गया कि पाबंदियां बढ़ाने का निर्णय किया गया है, क्योंकि राज्य में कोविड- 19 का खतरा बना हुआ है. उन्होंने कहा कि आपातकालीन उपाय जारी रखना अनिवार्य है, ताकि वायरस के प्रसार को रोका जा सके. लोगों की आवाजाही और अन्य गतिविधियों पर पाबंदियां इस महीने की शुरुआत में लगाई गई थीं, जो एक मई सुबह सात बजे तक के लिए थी. सीआरपीसी की धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू है, जिसमें एक स्थान पर पांच या अधिक लोगों के इकट्ठा होने पर प्रतिबंध है. पाबंदियों से आवश्यक सेवाओं को छूट दी गई है.

कोरोना वायरस के 66,159 नए मामले

बता दें कि महाराष्ट्र में बृहस्पतिवार को कोरोना वायरस से संक्रमण के 66,159 नए मामले सामने आए और 771 मरीजों की मौत हो गयी. महाराष्ट्र में संक्रमित लोगों की कुल संख्या बढ़कर 45,39,553 हो गयी वहीं मृतकों की कुल संख्या बढ़कर 67,985 हो गयी. स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि इस दौरान 68,537 मरीजों को स्वस्थ होने पर अस्पतालों से छुट्टी दे दी गयी. महाराष्ट्र में अभी 6,70,301 मरीजों का इलाज चल रहा है. स्वास्थ्य विभाग के अनुसार महाराष्ट्र में कोविड मरीजों के स्वस्थ होने की दर 83.69 प्रतिशत है जबकि मृत्यु दर 1.5 प्रतिशत है. इस बीच मुंबई में 4,174 नए मामले सामने आए और 82 मरीजों की मौत हो गयी. इसके साथ ही यहां संक्रमित लोगों की कुल संख्या 6,44,583 हो गयी वहीं मृतकों की संख्या बढ़कर 13,036 हो गयी

बढ़ाई गईं पाबंदियां
राज्य में 14 अप्रैल से लोगों की आवाजाही और कई अन्य गतिविधियों पर रोक है. यह रोक 30 अप्रैल तक लगाई गई थी. इन पाबंदियों से जरूरी सेवाओं को छूट दी गई है. एक बार में पांच या अधिक लोगों को जमा होने से रोकने वाले निषेधात्मक आदेश लागू हैं और गैर जरूरी गतिविधियों की इजाजत नहीं दी जा रही है. फिलहाल किराना, सब्जी की दुकानों और डेयरी को महज चार घंटे सुबह सात बजे से पूर्वाह्न 11 बजे तक ही खोलने की इजाजत है, जबकि सामान की ‘होम डिलिवरी’ रात आठ बजे तक ही करने की इजाजत है. पिछले हफ्ते, राज्य सरकार ने प्रतिबंधों को और कड़ा कर दिया था तथा यात्रा, कार्यालयों में उपस्थिति और शादी कार्यक्रमों में शिरकत को और सीमित कर दिया है.

error: Content is protected !!