11388 करदाताओं ने हड़पा 12 करोड़; अब फर्जी किसानों के खिलाफ होगी कानूनी कार्यवाही

हिमाचल में किसान सम्मान निधि के घोटाले में बड़े घोटाले का पर्दाफाश होता जा रहा है। ताजा जानकारी के मुताबिक हिमाचल में 11 हजार 3 सौ 88 टैक्स देने वालों ने लगभग 12 करोड़ रुपये किसान सम्मान निधि के झूठी सूचना देकर हड़प लिए है। कांगड़ा, ऊना और मंडी में किसान निधि के गबन के मामले सामने आने के बाद यह सबसे बड़ा आंकड़ा सामने आया है।

जानकारी के मुताबिक अब प्रशासन इस मामले में 11,388 करदाताओं से किसान सम्मान निधि का पैसा वापिस लेने के लिए रिकवरी नोटिस भेज रहा है। जबकि फर्जी जानकारी देकर सरकार को चुना लगाने वाले कर्मचारियों और अधिकारियों के खिलाफ अभी तक कोई कानूनी कार्यवाही के आदेश जारी नही हुए है, और यह साफ है कि बिना सरकारी कर्मचारियों और अधिकारियों की मिली भगत से इस गबन या घोटाले को अंजाम देना असंभव था।

इस घोटाले या गबन के बारे मुख्य सचिव ने सभी उपायुक्तों को पत्र लिखा है। 11,388 करदाताओं द्वारा 11,95,22,00 का फर्जी किसान बन कर गबन करने का डाटा किसान सम्मान निधि का आयकर विभाग के डाटा से मिलान करने पर सामने आया है। इसी मिलान से पता चला है कि कौन कौन फर्जी गरीब किसान बन कर किसान निधि का पैसा हड़प रहा है।

जानकारी मिली है कि यह डाटा केवल कांगड़ा, हमीरपुर, ऊना, शिमला और सिरमौर से संबंधित है। पूरा पैसा फर्जी किसानों के एकाउंट से ही वापिस लिया जाएगा। अब कर्मचारियों और अधिकारियों को बचाने के लिए सरकार और प्रशासन स्वयं सत्यापन के आधार पर उन फर्जी किसानों के खिलाफ ही कार्यवाही करेगी। जिन्होंने किसान निधि का पैसा हड़पा है और सभी के खिलाफ कानूनी कार्यवाही की जाएगी।

Please Share this news:
error: Content is protected !!