दुनिया का पहला अपहरण केस; जिसमें बिटकॉइन के रूप में मांगी गई फिरौती

कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में एक आठ वर्षीय लड़के का अपहरण हो गया। अपहरणकर्ताओं ने उसे रिहा करने के एवज में फिरौती के तौर पर 10 करोड़ रुपये मूल्य के 60 बिटकॉइन मांगे थे। हालांकि पुलिस ने शनिवार को बच्चे को आरोपियों के चंगुल से छुड़ा लिया। इस  मामले में छह लोगों को गिरफ्तार किया गया है, जबकि मुख्य आरोपी फरार है।

पुलिस अधीक्षक बीएम लक्ष्मीप्रसाद ने कहा, ‘दक्षिण कन्नड़ के उजिरे इलाके से 8 साल के बच्चे का अपहरण किया गया। अपहरणकर्ताओं ने फिरौती के तौर पर बिटकॉइन मांगे। बच्चे का अपहरण तब किया गया जब वह 17 दिसंबर को अपने दादा के साथ टहलने के लिए गया था। मामला दर्ज कर लिया गया है।’

एसपी ने कहा, ‘बच्चे के पिता एक स्थानीय व्यवसायी हैं और उसके दादा एक सेवानिवृत्त सैनिक हैं। बच्चे को 19 दिसंबर को राज्य के कोलार जिले से छुड़ा लिया गया और छह अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया है। मुख्य आरोपी अभी फरार है।’

एसपी लक्ष्मीप्रसाद ने आगे कहा, ‘मुख्य आरोपी बच्चे के पिता का पूर्व कारोबारी साथी हो सकता है। ऐसा संदेह है कि उसे लगता था कि बच्चे के पिता के पास बिटकॉइन हैं। बिटकॉइन की कीमत बहुत बढ़ी है, इसलिए आरोपी ने फिरौती में ये मांगे।’

बता दें कि अनुभव नाम के लड़के का गुरुवार को अपहरण कर लिया गया था। रिपोर्ट्स के अनुसार उसके पिता अतीत में बिटकॉइन में डील किया करते थे। अपहरणकर्ताओं ने बच्चे को छोड़ने के एवज में फिरौती के तौर पर 10 करोड़ रुपये के 60 बिटकॉइन मांगे थे। इससे पहले ज्यादा बिटकॉइन की मांग की गई थी जिसे कम करके 60 कर दिया गया था। अपहरणकर्ता व्हाट्सएप कॉल के माध्यम से परिवार से बात कर रहे थे और लगातार यात्रा कर रहे थे। दरअसल बिटकॉइन एक अवैध वचुर्अल करंसी है, अभी इसका मूल्य सत्रह लाख रुपये  प्रति बिटकॉइन से ज्यादा है।

Please Share this news:
error: Content is protected !!