बाबा का ढाबा फेम कांता प्रसाद ने की सुसाइड की कोशिश, सफदरजंग हॉस्पिटल में भर्ती

दिल्ली के मालवीय नगर में ‘बाबा का ढाबा’ (Baba Ka Dhaba News) चलाने वाले कांता प्रसाद ने सुसाइड की कोशिश की है. खबर के मुताबिक बाबा (Dhaba Owner Kanta Prasad) ने गुरुवार देर रात नींद की गोलियां खाकर जान देने की कोशिश की. बताया जा रहा है कि बाबा ने पहले तो खूब शराब पी, उसके बाद नींद की गोलियां खा लीं. नाज़ुक हालत में उन्हें सफदरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था. फिलहाल बाबा खतरे से बाहर हैं.

वहीं पुलिस का कहना है कि बाबा की सुसाइड (Kanta Prasad Attempt To Suicide) की कोशिश की वजह अभी साफ नहीं है. मामले की जांच की जा रही है. यह घटना गुरुवार रात 10 साढ़े दस बजे के आस पास हुई. कांता प्रसाद की पत्नी बादामी देवी ने बताया कि जहां उन्होंने रेस्टोरेंट खोला था उस जगह का किराया 1 लाख रुपये था.

वहीं आमदनी सिर्फ 30 हज़ार रुपये ही थी. इसीलिए बाबा कुछ समय से परेशान चल रहे थे और उन्होंने खुदकुशी की कोशिश की.

बाबा के साथ दूर हुए सभी गिले-शिकवे

वहीं यूट्यूबर गौरव वासन ने TV9 भारतवर्ष से बातचीत में कहा है कि वह इस मामले पर कुछ भी कहना नहीं चाहते हैं. वह बाबा से मिलकर सभी गिले-शिकवे पहले ही दूर कर चुके हैं. फूड ब्‍लॉगर ने सारे गिले शिकवे भुलाकर हाल ही में बुजुर्ग दंपत्ति के साथ एक खूबसूरत तस्वीर साझा की थी. गौरव वासन ने यह तस्‍वीर ढाबे के मालिक कांता प्रसाद के माफी मांगने के बाद पोस्‍ट की थी.

तस्‍वीर पोस्‍ट करते हुए गौरव वासन ने ट्वीट किया था कि, “ऑल इज वेल.” इससे पहले एक दूसरे फ़ूड ब्लॉगर ने साझा किए गए वीडियो में कांता प्रसाद हाथ जोड़कर यह कहते हुए सुने गए थे कि “गौरव वासन चोर नहीं थे. हमने उन्हें कभी चोर नहीं कहा”.’

कोरोना की वजह से बंद हो गया बाबा का रेस्टोरेंट

बतादें कि कोरोना महामारी की वजह से कांता प्रसाद का रेस्टोरेंट फरवरी में बंद हो गया था. जिसकी वजह से एक बार फिर कांता प्रसाद और उनकी पत्नी को उनके पुराने ढाबे पर वापस लौटने के लिए मजबूर होना पड़ा. एक तरफ अक्टूबर महीने में उनके ढाबे पर खूब ग्राहक पहुंच रहे थे, तो वहीं अब फिर से उनका बिजनेस ठप पड़ा है. फिर वह अपने ढाबे पर ग्राहकों की राह तकने को मजबूर हैं.

error: Content is protected !!