भारत का रिकॉर्ड: 633 डॉलर के पार पहुंचा विदेशी मुद्रा भंडार, गोल्ड रिजर्व में भारी उछाल

मुंबई. भारत का विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves/Forex Reserves) नए रिकार्ड स्तर पर पहुंच गया है. दरअसल, 27 अगस्त 2021 को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 16.663 अरब डॉलर बढ़कर 633.558 अरब डॉलर के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया. भारतीय रिजर्व बैंक यानी आरबीआई (Reserve Bank of India) के शुक्रवार को जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है.

इससे पहले, 20 अगस्त 2021 को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 2.47 अरब डॉलर घटकर 616.895 अरब डॉलर रह गया था. 13 अगस्त, 2021 को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 2.099 अरब डॉलर घटकर 619.365 अरब डॉलर रह गया था. 6 अगस्त को खत्म हुए सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार 621.464 अरब डॉलर के रिकार्ड स्तर पर पहुंच गया था.

एसडीआर होल्डिंग में वृद्धि
विदेशी मुद्रा भंडार में यह वृद्धि मुख्य तौर पर एसडीआर यानी स्पेशल ड्राइंग राइट (Special Drawing Rights) होल्डिंग में वृद्धि से हुई है आरबीआई ने कहा कि रिपोर्टिंग वीक में भारत की एसडीआर हिस्सेदारी 17.866 अरब डॉलर से बढ़कर 19.407 अरब डॉलर पर पहुंच गई. इंटरनेशनल मॉनेटरी फंड (IMF) अपने सदस्यों को बहुपक्षीय ऋण देने वाली एजेंसी में उनके मौजूदा कोटा के अनुपात में सामान्य एसडीआर का आवंटन करता है. एसडीआर हिस्सेदारी किसी देश के विदेशी मुद्रा भंडार घटकों में से एक है और काफी महत्वपूर्ण है.

1.409 अरब डॉलर घटी एफसीए
विदेशी मुद्रा भंडार में फॉरेन करेंसी एसेट यानी एफसीए (Foreign Currency Assets) अहम हिस्सा होती है. रिपोर्टिंग वीक के दौरान यह 1.409 अरब डॉलर घटकर 571.6 अरब डॉलर रह गई, जो समग्र भंडार का एक प्रमुख घटक है. डॉलर के लिहाज से बताई जाने वाली एसडीआर में विदेशी मुद्रा भंडार में रखी यूरो, पाउंड और येन जैसी दूसरी विदेशी मुद्राओं के मूल्य में वृद्धि या कमी का प्रभाव भी शामिल होता है.

गोल्ड रिजर्व में भी आई तेजी
इस दौरान गोल्ड रिजर्व 19.2 करोड़ डॉलर बढ़कर 37.441 अरब डॉलर हो गया. वहीं देश का आईएमएफ के पास आरक्षित भंडार 1.4 करोड़ डॉलर बढ़कर 5.11 अरब डॉलर हो गया.

error: Content is protected !!