हिमाचल पंचायत चुनाव: बर्थडे से पहले ललित को तोहफा, 21 साल की उम्र में बने प्रधान

शिमला: हिमाचल प्रदेश में पंचायत चुनाव का दूसरा चरण भी खत्म हो गया है. 19 जनवरी को वोटिंग होने के बाद परिणाम सामने आए हैं. इस बार लोगों ने काफी युवाओं को तरजीह दी और चुना है. पहले चरण में चहां 22 साल की उम्र में बिलासपुर (Bilaspur) की जागृति, रोहडू की अवंतिका और मंडी से खीरामणि ने जीत का परचम लहराया था. अब शिमला से 21 साल का युवक प्रधान चुना गया है.

शिमला के रामपुर ब्लॉक के दुर्गम क्षेत्र फांचा पंचायत में 21 वर्ष के युवा प्रधान को चुना गया है. 28 जनवरी 1999 को फांचा में जन्मे ललित ब्लॉक सहित पूरे क्षेत्र में सब से कम उम्र के प्रधान बनने का श्रेय हासिल किया है. ललित ने हाल ही में डिग्री कॉलेज रामपुर से बीकॉम की पढ़ाई पूरी की है. ललित के पिता गांव के समीप एक मिनी प्रोजेक्ट में कार्यरत हैं. प्रधान ललित ने मीडिया को बताया कि अपनी पंचायत की जनता की सेवा करने और अपनी पंचायत को विकास के शिखर में ले जाने का प्रण ले कर चुनाव में उतरा था और फांचा की जनता के वोट के कारण विजय हासिल हुई है.

हिमाचल में जनता इस बार युवाओं पर भरोसा दिखा रही है. बिलासपुर सदर की पंचायत साई खारसी में 22 वर्षीय जागृति ने प्रधान बनकर जिले में नया इतिहास रचा है. अभी तक जिले में 22 साल का कोई भी प्रधान नहीं बना था. जागृति शिमला से लॉ कॉलेज से वकालत की पढ़ाई कर रही हैं. शिमला के रोहड़ू से लोअरकोटी से अवंतिका प्रधान बनी है. वह डीयू से पासआउट हैं.

Please Share this news:
error: Content is protected !!