अच्छी पहल: कोरोना के खिलाफ एकजुट हुआ रूपगढ़ गांव, अपने स्तर पर महामारी को हराने की तैयारी 

सार
गांव के लोगों का कहना है कि वे यह इंतजार नहीं करेंगे कि प्रशासन आए और उन्हें कोरोना से बचाए। वे खुद इससे लड़ेंगे।

विस्तार
कोरोना महामारी अब गांवों में कहर बरपा रही है। ऐसे में लोग अपने स्तर पर ही इससे लड़ने के लिए आगे आ रहे हैं। ऐसी ही पहल की है जींद के रूपगढ़ गांव के लोगों ने। गांव की पंचायत कर फैसला लिया है कि पूरा गांव चंदा एकत्रित कर एक कोष बनाएगा। इससे गांव के हर जरूरतमंद की मदद की जाएगी। 

गांव के सरपंच संदीप अहलावत ने बताया कि कुछ दिन पहले गांव में पंचायत हुई थी। इसमें तीन फैसले लिए गए। सबसे पहले तय हुआ कि आर्थिक तंगी से किसी भी परिवार व व्यक्ति को परेशान नहीं होने दिया जाएगा। इसके लिए गांव के हर घर से चंदा लिया जाएगा। हर परिवार अपनी क्षमता के अनुसार इसमें योगदान दे सकता है। दूसरा फैसला हुआ कि गांव में ताश खेलने व सामूहिक रूप से हुक्का पीने पर रोक रहेगी। 

तीसरा फैसला हुआ कि गांव में हवन सामग्री की धूनी दी जाएगी और गांव को सैनिटाइज करवाया जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रशासन से बार-बार टीकाकरण व सैंपल लेने की मांग की गई, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। अब ग्रामीण प्रशासन का इंतजार नहीं करेंगे और अपने स्तर पर ही महामारी से लड़ेंगे। 

कोविड-19 के नोडल अधिकारी व डिप्टी सिविल सर्जन डॉ. पालेमराम कटारिया ने बताया कि गांव में सर्वे करवाया जाएगा। इसके बाद जो भी रिपोर्ट आएगी उसके अनुसार ही कार्रवाई होगी। गांव में दो-तीन मौत कोरोना से होने की पुष्टि हुई है।

error: Content is protected !!