बदायूं गैंगरेप की ग्राउंड रिपोर्ट; सत्यनारायण के दूसरी महिला से भी थे संबंध

यूपी के बदायूं में महिला से गैंगरेप और हत्या के पीछे पुजारी की काली करतूतों और अय्याशी का सच छिपा हुआ है। घटना की रात पुजारी की पहले से संपर्क में रही महिला से कहासुनी हुई थी। इसी कहासुनी और डर में आंगनबाड़ी सहायिका मौत का शिकार हो गई। पुलिस अफसरों ने दावा किया है कि महिला के प्राइवेट पार्ट में कुएं में गिरने की वजह से चोट आई है। सभी पहलुओं की जांच की जा रही है।

बदायूं के उघैती इलाके में आंगनबाड़ी सहायिका की हत्या और गैंगरेप के मामले में पुलिस ने आरोपी महंत सत्यनारायण को गिरफ्तार किया था। आईजी रेंज राजेश पांडेय, एसपी बदायूं संकल्प शर्मा समेत कई पुलिस अधिकारियों ने अलग-अलग और एक साथ घंटों महंत से पूछताछ की। अधिकारियों ने अभी इस मामले में पूरा खुलासा नहीं किया है, लेकिन सूत्रों का कहना है कि आरोपी ने पूछताछ में बताया कि इन दिनों गांव की दो महिलाएं उसके संपर्क में थीं।  

मृतक महिला उसके यहां इलाज कराने और दुआ मांगने आई थी। इसी दौरान वह इसके संपर्क में आया था और इसके बाद महिला धर्मस्थल में आने-जाने लगी, यह बात पहले से संपर्क में रही महिला को नागवार गुजरी। कई बार इसको लेकर कहासुनी हो गई थी। घटना से 15 दिन पहले आंगनबाड़ी सहायिका को महंत के घर में देखा गया था। इससे नाराज होकर पहले से संपर्क में महिला ने महंत से झगड़ा किया और दोबारा महिला को उसके साथ देखने पर अंजाम भुगतने की धमकी दी थी।

घटना की शाम को आंगनबाड़ी सहायिका महंत के पास आई थी।  इसी दौरान बेटे के जरिये उसके पहले से संपर्क में रही महिला को सूचना मिली कि दोनों साथ हैं। तब महिला ने शाम 7:05 बजे  महंत को फोन कर पूछा कि वह कहां है। महंत ने बहाना बनाया कि वह तंबाकू लेने आए हैं। उस महिला को पीछे से दूसरी महिला की आवाज  फोन पर आने की वजह से वह बौखला गई। उसने महंत को धमकी दी कि वह अभी उनके घर आकर उन्हें बेनकाब करेगी और उनकी असलियत लोगों को दिखाएगी। इससे महंत और आंगनबाड़ी सहायिका दोनों घबरा गए। इसी घबराहट में महिला कुएं में गिरी और मौत का शिकार हो गई।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि धर्म स्थल से जुड़ी काफी जमीन है, जिसमें खेती-बाड़ी होती है। महंत ने बताया कि इस खेती बाड़ी की देखभाल के लिए महिला और उसके पति को रखा गया था। खेती और फसल को जानवरों से बचाने के लिए उसमें तार की बाड़ लगवा दी थी, जिसमें वह करंट छोड़ देते थे। महिला के पति की करंट से मौत हो गई। इसके कुछ दिन बाद महिला ने महंत को धमकाया कि उसे अपने साथ नहीं रखेंगे तो वह उन्हें जेल भिजवा देगी। हत्या और रेप के आरोप में फंसा देगी। इसके बाद महंत और महिला अक्सर साथ दिखने लगे थे।

आंगनबाड़ी सहायिका के पति बीमार थे। कुछ दिन बाद आंगनबाड़ी सहायिका की भी हालत बिगड़ने लगी। जिस पर वह धर्म स्थल में झाड़-फूंक कराने के लिए आई थी। इसी दौरान महंत के संपर्क में आईं। आंवला में महंत के परिवार में शादी थी। महंत आंगनबाड़ी सहायिका को अपने साथ ले गए थे। वहां उनके अलग घर में रहने की व्यवस्था की गई थी। वहीं से महंत और महिला के संबंध प्रगाढ़ हो गए थे। 

Please Share this news:
error: Content is protected !!