दिल्ली: लारेंस बिश्नोई व सपत नेहरा गैग के शार्प शूटर को दबोचा, प्रॉपर्टी दफ्तर पर गोली चलाकर मांगी थी एक करोड़ की रंगदारी

नरेला इलाके में प्रॉपर्टी डीलर के दफ्तर पर गोली चलाकर एक करोड़ की रंगदारी मांगने के आरोप में दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई और संपत नेहरा गैंग के शार्प शूटर को गिरफ्तार किया है।

आरोपी की पहचान प्रेम नगर, रोहतक, हरियाणा निवासी नवीन सिंधु उर्फ अक्षित उर्फ चीता (19) के रूप में हुई है।

पुलिस ने आरोपी के पास से वारदात में इस्तेमाल बाइक, वारदात के समय पहने हुए कपड़े व अन्य सामान बरामद किया है। आरोपी ने अपने साथी शुभम के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया था। अपराध शाखा की टीम नवीन से पूछताछ कर उसके साथी शुभम की तलाश कर रही है।

अपराध शाखा की पुलिस उपायुक्त मोनिका भारद्वाज ने बताया कि 17 नवंबर को नेरला इलाके के प्रॉपर्टी डीलर अनिल ने रंगदारी मांगे जाने की शिकायत दी थी। अनिल ने बताया कि उसके कर्मचारी के पास व्हाट्सएप पर एक ऑडियो क्लिप आई। उसमें आरोपी ने खुद को संपत नेहरा गैंग का सदस्य बताकर अनिल से एक करोड़ रुपये रंगदारी की डिमांड की। इसी दौरान करीब 11.06 बजे अज्ञात बदमाशों ने अनिल के दफ्तर पर कई राउंड गोलियां भी चला दीं।

मौके पर आरोपियों ने हाथ से लिखा पर्चा भी फेंक दिया। सूचना मिलते ही पुलिस की टीम मौके पर पहुंची। पुलिस को मौके से एक खोखा व तीन गालियों के लेड बरामद हुए। लोकल पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया। मामले की जांच अपराध शाखा को ट्रांसफर कर दी गई। एसीपी उमेश बर्थवाल व इंस्पेक्टर सत्येंद्र मोहन की टीम ने छानबीन शुरू की। इस दौरान टीम ने लंबी जांच के बाद एक आरोपी नवीन को आरके पुरम इलाके से दबोच लिया।

पूछताछ के दौरान आरोपी ने वारदात में अपना हाथ होने की बात कबूल ली। आरोपी नवीन ने बताया कि 17 नवंबर को उसने अपने दोस्त की बाइक का इंतजाम किया। वहां से वह सोनीपत अपने दोस्त शुभम के पास पहुंचा। सुबह करीब 8.30 बजे वह नरेला पहुंचे। यहां गैंग के गुर्गे रोहित ने व्हाट्सएप कॉल कर अनिल से एक करोड़ की रंगदारी मांगने के लिए कहा। रोहित के कहने पर आरोपियों ने वारदात को अंजाम दिया। बाद में आरोपी फरार हो गए। पुलिस शुभम की तलाश कर रही है।

Please Share this news:
error: Content is protected !!