कुल्लू में अनुसूचित जाति परिवार पर जानलेवा हमला, पुलिस ने दर्ज की क्रॉस एफआईआर

हिमाचल प्रदेश में जाति आधारित इंसानों की घटनाएं रुकने का नाम नहीं ले रही है। ना तो इस मामले में सरकार कोई खास कदम उठा रही है और ना ही पुलिस जाति आधारित हिंसा मामलों में सही तरीके से कानूनी कार्रवाई कर रही है। जिसके चलते कुछ दबंग लोगों के हौसले दिन प्रतिदिन बुलंद होते जा रहे हैं तथा हिमाचल बिहार और उत्तर प्रदेश की तर्ज पर आगे बढ़ रहा है। हिमाचल में जाति आधारित विश्वास के हालात कितने खराब है कि अगर किसी आदमी की स्कूटी सड़क पर स्लिप हो जाए तो भी उसका खामियाजा अनुसूचित जाति के लोगों को भुगतना पड़ रहा है।

ऐसा ही एक ताजा वाक्य कुल्लू के गड़सा से निकल कर सामने आया है। जानकारी के मुताबिक कुछ सामान्य वर्ग के लोगों ने यहां अनुसूचित जाति के लोगों पर इसलिए हमला कर दिया, क्योंकि अनुसूचित जाति के लोगों के घर के पास उनकी स्कूटी फिसल कर गिर गई थी। पीड़ितों के मुताबिक जब यहां स्कूटी स्लिप हुई थी तो अनुसूचित जाति की महिला गिरे हुए आदमी की मदद करने गई तो उसके साथ मारपीट की गई। महिला को बचाने उसका पति गया तो उस पर भी जानलेवा हमला किया गया। सामान्य वर्ग के व्यक्ति का कहना था कि अनुसूचित परिवार के घर से निकले पानी की वजह से उसकी स्कूटी स्लिप होकर गिरी है। जबकि पीड़ितों का कहना है कि यहां बारिश का पानी रुका हुआ है।

इस हमले में अनुसूचित जाति परिवार के लोगों को काफी गंभीर चोटें आई है। जिसके चलते उनका हॉस्पिटल हॉस्पिटल में चल रहा है। उनका कहना है कि सामान्य वर्ग के लोगों ने उनके साथ मारपीट की ही साथ में जातिसूचक शब्दों का भी प्रयोग किया गया। उन्होंने बताया कि सामान्य वर्ग के लोगों ने उनको मौके पर बहुत बुरी तरह से प्रताड़ित किया और जान से मारने की पूरी कोशिश की। जबकि हम उस आदमी की मदद करने गए थे।

इस मामले पर समता सैनिक दल के अध्यक्ष दिले राम ने कड़ा संज्ञान लिया है और अब भीम आर्मी हिमाचल प्रदेश के अध्यक्ष रवि कुमार दलित भी पीड़ितों के समर्थन में आ गए हैं। उन्होंने मांग की है कि इस तरह की शर्मनाक घटना और जाति आधार पर अनुसूचित जाति के लोगों को प्रताड़ित करने के लिए कुल्लू पुलिस तत्काल प्रभाव से अनुसूचित जाति जनजाति अत्याचार निवारण अधिनियम में मामला दर्ज करें तथा निष्पक्ष जांच करके पीड़ितों को न्याय दिलाएं। उन्होंने कहा है कि अगर पुलिस इस मामले में सही से कार्यवाही नहीं करती तो हम सीधा न्यायालय का रुख करेंगे और पुलिस को भी इस मामले में अनुसूचित जाति लोगों को न्याय नहीं दिलाने के लिए आरोपी बनाएंगे।

जब डीएसपी हेडक्वार्टर कुल्लू से बात की गई तो उनका कहना था कि इस मामले में दोनों तरफ से एफआईआर दर्ज हुई है। उन्होंने कहा कि इस सामान्य वर्ग की ओर से 341, 324 और 504 आईपीसी में मामला दर्ज किया गया है तथा दूसरी ओर से भी इन्हीं धाराओं और एससी एसटी एक्ट में मामला दर्ज किया गया है।

error: Content is protected !!