प्राइवेट स्कूलों से परेशान शिक्षा मंत्री का विवादित ब्यान, कहा, मरना है तो मर जाओ

MP News: मध्य प्रदेश में निजी स्कूलों की मनमानी की खबरें कोरोनाकाल में भी सामने आती रही हैं, इसी मामले को लेकर आज कुछ अभिभावक प्रदेश के स्कूल शिक्षा मंत्री इंदरसिंह परमार से मिलने पहुंचे थे. लेकिन यहां मंत्री ने विवादित बयान दिया.

दरअसल, जब अभिभावक स्कूलों की मनमानी की शिकायत करने स्कूल शिक्षा मंत्री के पास पहुंचे तो मंत्री ने विवादित बयान देते हुए कहा कि ”कहा-मरना है तो मर जाओ, जो करना है, करे” पालक संघ के प्रतिनिधि फीस कम करने के मुद्दे को लेकर स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार से मिलने पहुंचे थे. अभिभावकों का कहना है कि कोरोना काल में स्कूल बंद होने के बाद भी स्कूल संचालक एक अप्रैल से ऑनलाइन क्लास की फीस मांग रहे हैं.

जबकि कोविड की वजह से बच्चों के अभिभावकों के पास भी आय का जरिया कम है. ऐसे में पालक संघ के सदस्य मंत्री से यह मांग करने पहुंचे थे कि स्कूल संचालक फीस कम करें नहीं तो प्रदेश में आंदोलन किया जाएगा. इसी बात पर मंत्री नाराज हो गए थे.

पालक संघ के सदस्यों और मंत्री के बीच हुई इस बहस के बाद मामला तूल पकड़ता नजर आ रहा है. पालक संघ के सदस्यों ने मंत्री के इस बर्ताव के लिए उनसे इस्तीफे के की मांग की है. उनका कहना है कि एक तरफ स्कूल संचालक बेवजह उनसे फीस वसूल रहे हैं ऊपर से स्कूल शिक्षा मंत्री का इस तरह का रवैया उनकी परेशानियों को और बढ़ाएगा.

कांग्रेस ने साथा निशाना
वहीं मंत्री के इस बयान पर अब कांग्रेस भी हमलावर नजर आ रही है, कांग्रेस नेता जेपी धनोपिया ने कहा कि मंत्री का यह बयान गैरजिम्मेदाराना है. मौजूदा वक्त में स्कूलों की मनमानी से अभिभावक परेशान है, ऐसे में मंत्री को उनकी बात सुननी चाहिए थी न कि उनके साथ इस तरह का बर्ताव करना था.

बीजेपी ने किया बचाव
इस मामले में बीजेपी मंत्री इंदर सिंह परमार का बचाव करती नजर आई. बीजेपी के प्रदेश मंत्री रजनीश अग्रवाल ने कहा कि मध्य प्रदेश की सरकार ने पहले से ही नियम बना रखे हैं कि अगर कोई भी नियम मुताबिक फीस न वसूल कर मनमानी फीस वसूल रहा है तो कलेक्टर उन पर कार्रवाई कर सकते हैं. उसके बावजूद कुछ लोग मंत्री के पास पहुंचते हैं न लिखित में शिकायत देते हैं न ही स्कूल का नाम वर्बली बताते हैं तो कार्रवाई कैसे संभव है?, जो बहस हुई है वो भी उचित नहीं है सरकार लगातार कार्रवाई कर रही है.

Get delivered directly to your inbox.

Join 1,139 other subscribers

error: Content is protected !!