हिमाचल में वोटिंग शुरू; मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने गृह पंचायत में किया मतदान

हिमाचल प्रदेश में रविवार से पंचायतीराज संस्थाओं के चुनाव कर मतदान प्रक्रिया शुरू हो गई। रविवार को सुबह 8 बजे से ही मतदाता पहले चरण के लिए वोट डालने पहुंचने लगे हैं। चुनाव के बाद जिला परिषद, ब्लॉक समिति सदस्य, प्रधान, उपप्रधान और वार्ड सदस्य चुने जाएंगे। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर मंडी जिले में अपनी गृह पंचायत पहुंच कर वोट कर चुके है। सराज क्षेत्र की ग्राम पंचायत मुरहाग सीएम की गृह पंचायत है। सीएम ठाकुर मतदान करने के लिए अपने घर पहुंच गए थे। उनके क्षेत्र का मतदान केंद्र मुरहाग स्कूल में है। उन्होंने अपने सोशल मीडिया एकाउंट से लोगों से वोट करने की अपील भी की है।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर

मंडी जिले में 559 ग्राम पंचायतों में चुनावों की प्रक्रिया को संपन्न करवाने के लिए पांच हजार कर्मचारी तैनात किए गए हैं। यह सभी कर्मचारी अपने-अपने मतदान केंद्रों पर पहुंच चुके हैं। डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर ने बताया कि जिला में पंचायत चुनाव तीन चरणों में होंगे। 17 जनवरी को पहले चरण का मतदान करवाने के बाद सभी पोलिंग पार्टियां अगले स्टेशन के लिए रवाना होंगी और 19 जनवरी को दूसरे चरण का मतदान करवाने के बाद 21 जनवरी को तीसरे चरण की मतदान प्रक्रिया को संपन्न करवाएंगी। 

चंबा जिले में भी पंचायती राज चुनावों के लिए मतदान शुरू हुआ। यहां 309 पंचायतों के 1771 वार्डों में तीन चरणों में चुनाव होगा। पहले चरण में 114 पंचायतों और 672 वार्डों में मतदान हो रहा है। जिले में 971 पोलिंग स्टेशन बनाए गए हैं। मतदान में 3 लाख 87 हजार 551 मतदाता अपने मत का प्रयोग करेंगे। इनमें 1 लाख 91 हजार 188 महिला और 1लाख 96 हजार 345 पुरुष हैं। 

ऊना जिले में भी 86 पंचायतों के लिए मतदान शुरू हो गया। सुबह 8 बजे शुरू हुई वोटिंग शांति से हो रही है। यहां जिला परिषद, ब्लॉक समिति सदस्य, प्रधान, उपप्रधान और वार्ड सदस्य चुने जाएंगे। पंचायतों में चुनाव को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। उधर, हमीरपुर की ग्राम पंचायतों में भी आज सुबह से मतदान शुरू हुआ। ठंड के बावजूद बड़ी संख्या में लोग वोट देने निकल रहे हैं। हमीरपुर जिले की 88 पंचायतों के लिए 305 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। कोरोना गाइडलाइंस के तहत वोट डाले जा रहे हैं। 

जहां-जहां जिस दिन मतदान होगा, वहां-वहां वार्ड मेंबर, उपप्रधान और प्रधान का परिणाम उसी दिन घोषित कर दिया जाएगा। जबकि बीडीसी और जिला परिषद का परिणाम 22 जनवरी को घोषित होगा। डीसी मंडी ने बताया कि बीडीसी और जिला परिषद की मतदान पेटियों को संबंधित उपमंडल मुख्यालय तक सुरक्षित पहुंचाने के पुख्ता बंदोबस्त कर दिए गए हैं। 

डीसी मंडी ऋग्वेद ठाकुर ने लोगों से अपने मताधिकार का इस्तेमाल करने का आहवान किया है। उन्होंने कहा कि पांच वर्षों में एक बार यह मौका मिलता है जब जनता अपने क्षेत्र के प्रतिनिधियों का चयन करती है। ऐसे में सभी को अपने मताधिकार का इस्तेमाल करना चाहिए। मंडी जिला में 559 ग्राम पंचायतें हैं जहां पर तीन चरणों में मतदान की प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा। 17 जनवरी को मंडी जिला के 11 विकास खंडों की 190, 19 जनवरी को 188 और 21 जनवरी को 181 ग्राम पंचायतों में मतदान होगा। सूबे में कुल 3415 पंचायतों में चुनाव हो रहे हैं।

Please Share this news:
error: Content is protected !!