देश में बढ़े चाइल्ड पोर्न मामले, 100 से ज्यादा देशों से जुड़े है तार, 14 राज्यों में हो रही गिरफ्तारी

नई दिल्ली : बच्चों के अश्लील वीडियो बनाने और शेयर करने के Pornography के मामले में CBI ने मंगलवार (16 नवंबर) को देश के 14 राज्यों में ताबड़तोड़ छापे मारे. CBI सूत्रों के अनुसार इन राज्यों के 77 शहरों में छापेमारी (Raid) के दौरान देर रात तक 10 लोगों को गिरफ़्तार किया गया. मिली जानकारी के अनुसार कार्रवाई के दौरान गैजेट्स (Gadgets) और अन्य कई सबूत मिले हैं. इन सबूतों से जानकारी मिली है कि चाइल्ड Pornography का नेटवर्क 100 देशों तक फैला हुआ है. वहीं ओडिशा में छापा मारने गई CBI टीम पर स्थानीय ग्रामीणों ने हमला कर दिया और मारपीट भी की.

खबर में खास

  • 83 आरोपियों के खिलाफ 23 नामजद मुकदमें
  • CBI की चल रही छापेमारी
  • CBI टीम पर हुआ हमला
  • कई सबूत CBI को मिले
  • पोर्नोग्राफी के आंकड़ो में बढ़ोतरी
  • UP में सबसे ज़्यादा पोर्नोग्राफी के मामले
  • 2015 में 850 पोर्न साइट्स पर बैन

83 आरोपियों के खिलाफ 23 नामजद मुकदमें

एक निजी अख़बार से CBI प्रवक्ता आरसी जोशी ने कार्रवाई की पुष्टि की और जानकारी दी है कि 14 नवंबर को इस मामले में 83 आरोपियों के खिलाफ 23 नामजद मुकदमें दर्ज किए गए थे. उन्होंने बताया है कि हिरासत में लिए गए 10 लोगों से पूछताछ चल रही है साथ ही आरोपियों की संख्या भी बढ़ सकती है.

CBI की चल रही छापेमारी

आपको बात दें कि 16 नवंबर की सुबह मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, आंध्रप्रदेश, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, पंजाब, बिहार, ओडिशा, तमिलनाडु, राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश के अलग-अलग जगहों पर छापा मारा गया है. सूत्रों के अनुसार मध्यप्रदेश के 3 बड़े शहरों में भी छापामारी की जा रही है.

CBI टीम पर हुआ हमला

ओडिशा के ढेनकनाल जिले के एक गांव में CBI टीम पर छापा मारते वक्त स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया. हमला तब किया गया जब ऑनलाइन चाइल्ड सेक्सुअल अब्यूज मैटीरियल से जुड़े मामले में टीम ने एक आदमी के घर में तलाशी लेने का प्रयास किया. CBI टीम से मारपीट की सूचना पर पहुंची स्थानीय पुलिस ने उन्हें किसी तरह भीड़ से बचाया.

कई सबूत CBI को मिले

मिली जानकारी के मुताबिक़ CBI द्वारा की गई कार्रवाई में बड़ी मात्रा में अलग अलग ठिकानों से गैजेट्स, पैन ड्राइव, लैपटॉप जब्त किए गए हैं. ज़ब्त किए गए इलेक्ट्रॉनिक सबूत से जांच एजेन्सी को बड़ी मात्रा में जानकारी मिल सकती है. शुरुआती जांच में पता चला है कि भारत से यह चाइल्ड पोर्नोग्राफी का नेटवर्क 100 देशों तक जा चुका है. इस नेटवर्क में शामिल कुछ अन्य देशों के लोगों के नाम भी सामने आए हैं.

पोर्नोग्राफी के आंकड़ो में बढ़ोतरी

आपको बता दें कि नेशनल क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो यानी NCRB के पिछले दिनों जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार देशभर में बच्चों के खिलाफ साइबर क्राइम 2019 की तुलना में 2020 में 400% से ज्यादा बढ़ा हैं. इनमें से ज्यादातर मामले यौन कार्यों में बच्चों को दिखाने वाली सामग्री के प्रसारण से जुड़े हैं.

UP में सबसे ज़्यादा पोर्नोग्राफी के मामले

NCRB के 2020 के आंकड़ों के अनुसार बच्चों के खिलाफ साइबर पोर्नोग्राफी के सबसे ज्यादा मामले उत्तर प्रदेश में 161, महाराष्ट्र में 123, कर्नाटक में 122 और केरल में 101 दर्ज किए गए हैं. साथ ही ओडिशा में 71, तमिलनाडु में 28, असम में 21, मध्यप्रदेश में 20, हिमाचल प्रदेश में 17, हरियाणा में 16, आंध्रप्रदेश में 15, पंजाब में 8, राजस्थान में 6 केस मिले हैं. गुजरात व दिल्ली में भी आज CBI की जांच चल रही है.

2015 में 850 पोर्न साइट्स पर बैन

आपको याद होगा कि साल 2015 में सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद केंद्र सरकार ने 850 पोर्न साइट्स पर बैन लगा दिया था जिसका काफी विरोध हुआ था. इसके बाद केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में अपनी सफाई पेश की थीअटॉर्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने तब के चीफ जस्टिस एचएल दत्तू की बेंच के सामने कहा था, ‘अगर कोई अकेले में पोर्नोग्राफी देखना चाहता है तो उस पर बैन नहीं है. इंटरनेट के इस दौर में सभी पोर्न साइट्स को बैन करना मुश्किल है. हम किसी के बेडरूम में जाकर नहीं झांक सकते.’

Please Share this news:
error: Content is protected !!