बालिका बधू की आ रही थी बारात, चाइल्ड हेल्पलाइन की कार्यवाही से रुकी शादी

तखतपुर क्षेत्र के खम्हरिया स्थित करनकापा में नाबालिग लड़की की शादी तय कर दी गई। मंगलवार को नाबालिग दूल्हा व परिजन बारात लेकर आते इससे पहले ही चाइल्ड लाइन की टीम को इसकी खबर मिल गई। लिहाजा, महिला एवं बाल विकास विभाग और पुलिस की मदद से शादी रोक दी गई। इस दौरान लड़की के स्वजन से शपथपत्र लेकर उन्हें समझाया गया।

महिला व नाबालिगों के संरक्षण व सुरक्षा के लिए चाइल्ड लाइन संस्था काम करती है। महिला व बच्चों पर होने वाले अपराध की रोकथाम के लिए चाइल्ड लाइन ने टोल फ्री नंबर 1098 जारी किया है। दो दिन पहले फोन के जरिए संस्था को खबर मिली कि बिलासपुर जिले के तखतपुर क्षेत्र के खम्हरिया स्थित ग्राम करनकापा में नाबालिग लड़की व राजनांदगांव जिले के नाबालिग लड़के की शादी तय की गई है। गांव में वैवाहिक कार्यक्रम चल रहा है और मंगलवार को बारात आने वाली है। खबर मिलते ही चाइल्ड लाइन की टीम सक्रिय हो गई।

उन्होंने इस घटना की सूचना महिला एवं बाल विकास विभाग व तखतपुर पुलिस को दी। इस बीच आनन-फानन में टीम गठित की गई और पुलिस के साथ अधिकारी गांव पहुंच गए। गांव पहुंचने पर पतासाजी कर लड़की के स्वजनों से पूछताछ की गई और उसके अंकसूची की जांच की गई। इस दौरान पता चला दोनों पक्षों की शादी मुंगेली में होने वाली थी। लिहाजा, राजनांदगांव में रहने वाले लड़के के संबंध में भी जानकारी जुटाई गई। फिर उन्हें नाबालिग की शादी नहीं करने की समझाइश दी गई। कानूनी कार्रवाई के भय से लड़के वाले बारात लेकर नहीं पहुंचे। वहीं, इस दौरान लड़की के स्वजनों को भी शादी नहीं करने की समझाइश दी गई। साथ ही यह भी कहा गया कि बालिग होने पर दोनों पक्ष आपसी रजामंदी से शादी कर सकते हैं।

इस दौरान टीम ने लड़की पक्ष से शपथपत्र भी लिया है। इसके बाद भी चोरी छिपे शादी करने पर उन्हें वैधानिक कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है। इस कार्रवाई में चाइल्ड लाइन के केंद्र समन्वयक पुस्र्षोत्तम पांडेय, सदस्य नंदकुमार, बाल संरक्षण इकाई के देव सिंह नेताम, तखतपुर थाना प्रभारी मोहन भारद्वाज व महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी कर्मचारी मौजूद रहे।

एक लाख रुपये तक हो सकता है जुर्माना

चाइल्ड लाइन की टीम व पुलिसकर्मियों ने इस दौरान लड़की के स्वजनों को सझाइश देते हुए कहा कि इस तरह से नाबालिग की शादी करना कानूनन अपराध है। राज्य शासन ने बाल विवाह करने वाले व सहयोग करने वालों पर एक लाख स्र्पये तक जुर्माना व दो साल तक कारावास की सजा का प्रविधान किया है। उनकी समझाइश के बाद स्वजन भी शादी रोकने के लिए राजी हो गए।

error: Content is protected !!