पंजाब में उथल पुथल; 75 साल की उम्र में नेताओं को रिटायर करने वाली भाजपा को मिलेगा 80 साल का कैप्टन

पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह आज गृह मंत्री अमित शाह से उनके आवास पर मुलाकात कर सकते हैं। माना जा रहा है कि नवजोत सिंह सिद्धू से नाराज कैप्टन अमरिंदर सिंह आज कांग्रेस से अपना रिश्ता तोड़ भाजपा में शामिल हो सकते हैं।

भाजपा सूत्रों का कहना है कि पार्टी कैप्टन को सही तरीके से इस्तेमाल करने की रणनीति पर विचार कर रही है। उन्हें पार्टी में शामिल कराकर पर एक चेहरे के रूप में पेश करना उचित रहेगा, या कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व में एक नए राजनीतिक दल का गठन हो और भाजपा उसका बाहर से सपोर्ट करे, इस संभावना पर भी गंभीरता से विचार किया जा रहा है। इसी के साथ यह सवाल शुरू हो गया है कि जो पार्टी 75 साल की उम्र पूरा होने पर अपने नेताओं को पार्टी की सक्रिय राजनीति से विदा कर देती है, वह 79 साल के हो चुके कैप्टन अमरिंदर सिंह को पंजाब में अपना चेहरा क्यों बना रही है।

पंजाब भाजपा के एक नेता ने अमर उजाला से कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह अपनी राष्ट्रवादी भावनाओं के लिए जाने जाते हैं यदि कांग्रेस से उनका मोहभंग हो रहा है और वह भाजपा में शामिल होना चाहते हैं तो भाजपा इसका स्वागत करेगी। लेकिन भाजपा नेता ने कहा कि अभी कैप्टन की भूमिका को लेकर कोई अंतिम राय नहीं बनाई गई है। यदि भी पार्टी में शामिल होने की इच्छा रखेंगे तो इस पर अवश्य विचार किया जा सकता है।

जहां तक कैप्टन अमरिंदर सिंह की उम्र का सवाल है, पंजाब की स्थिति अपवाद की तरह समझी जा सकती है। कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब के कद्दावर नेता हैं। पार्टी के पास पंजाब में कोई चेहरा भी नहीं है। ऐसी स्थिति में यदि कैप्टन अमरिंदर सिंह भाजपा में शामिल होते हैं तो वे पार्टी के लिए वरदान साबित हो सकते हैं।

भाजपा में शुरू हुआ मंथन

भाजपा में इस बात को लेकर मंथन तेज हो गया है कि अमरिंदर को पार्टी में शामिल करने से भाजपा को कितना फायदा होगा। पंजाब में भाजपा के अनुकूल कोई माहौल नहीं है। किसान आंदोलन की वजह से उसका बचा-खुचा वोट बैंक भी खिसक सकता है। ऐसे में कैप्टन को लाकर भाजपा को कितना लाभ हो पाएगा यह विचार करने की बात है।

अभी तक भाजपा पंजाब में किसी दलित को मुख्यमंत्री पद का चेहरा बनाकर चुनाव में उतरने की तैयारी कर रही थी। लेकिन अगर कैप्टन भाजपा में शामिल होते हैं तो पंजाब की राजनीति में एक नया समीकरण पैदा हो सकता है।

error: Content is protected !!