आजम खां को जोर का झटका धीरे से,योगी सरकार के कब्जे में होगी 70 हेक्टयर की जौहर यूनिवर्सिटी.

उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री और समाजवादी पार्टी के सांसद आजम खान को जोहर यूनिवर्सिटी मामले में शनिवार को ADM कोर्ट में झटका दिया है! मामले में एडीएम कोर्ट ने जोहर ट्रस्ट की 70.05 हेक्टेयर जमीन को उत्तर प्रदेश की सरकार के नाम दर्ज करने का आदेश दे दिया है! यह वह जमीन है जो अभी तक आजम खान की जो हर ट्रस्ट के नाम पर थी जिसको अब एडीएम कोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार के नाम दर्ज करने का आदेश दिया है!

बता दें कि जौहर यूनिवर्सिटी के नियमों की अनदेखी करते हुए करीब 70 हेक्टेयर से भी ज्यादा जमीन खरीदी गई थी जबकि अनुमति केवल 12.5 एकड़ जमीन खरीदने की थी! ऐसे में एडीएम कोर्ट ने जोहर ट्रस्ट को नियमों का पालन करने का दोषी करार देते हुए यह फैसला सुनाया है! मामले को लेकर सरकारी वकील अजय तिवारी ने बताया है कि अब तहसील के अभिलेखों में यह भूमि आजम खान की ट्रस्ट भूमि से हटाकर प्रदेश सरकार के नाम दर्ज कर दी जाएगी!

समाजवादी सरकार के दौरान रामपुर से सांसद आजम खान सैकड़ों बीघा जमीन जोहर ट्रस्ट के नाम पर ली थी तो इसका मामला एडीएम कोर्ट में चल रहा था! इसके अंदर आ-रोप लगा था कि अनुमति की कई शर्तों का उल्लंघन किया गया है! प्रशासन की ओर से जो जमीनी जोहर ट्रस्ट को आवंटित की गई थी उसकी जांच एसडीएम सदर से कराई गई! समाजवादी पार्टी शासन के दौरान यह ट्रस्ट को जमीन देते समय स्टांप शुल्क में इस शर्त पर माफी दी गई थी कि जमीन पर चैरिटेबल कार्य होंगे!

मिली है जांच रिपोर्ट के अनुसार जोहर ट्रस्ट की जमीन पर जौहर विश्वविद्यालय का काम चल रहा है लेकिन पिछले 10 सालों में चैरिटी का कोई भी कार्य नहीं होने की बात भी सामने आई है! रिपोर्ट के अंदर यह कहा गया था कि ट्रस्ट को एक सीमा के तहत ही जमीन आवंटित की जा सकती है लेकिन इस मामले में नियम कायदों का उल्लंघन किया गया है! तत्कालीन एसडीएम सदर ने जो ट्रस्ट के मामले की जांच की थी तो इस पर कोर्ट में वाद दायर कराया गया था! शनिवार को यानी आज एडीएम JP गुप्ता की कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है!

Please Share this news:
error: Content is protected !!