राहुल गांधी की वैष्णों देवी यात्रा के बाद भाजपा ने गंगाजल से यात्रा मार्ग किया “शुद्ध”

जम्मूः वैष्णो देवी की यात्रा के इतिहास में पहली बार किसी राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर यात्रा मार्ग पर गंगाजल का छिड़काव कर उसे ‘शुद्ध’ किया है।

इस ‘शुद्धिकरण के नाटकीय प्रकरण’ के बाद प्रदेश में जबरदस्त बवाल मचा हुआ है और प्रदेश में दो राजनीतिक दल- कांग्रेस तथा भाजपा आमने सामने हैं।

दरअसल प्रदेश भाजपा के युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं और उनके अध्यक्ष अरूण जम्वाल ने कथित तौर पर सांसद राहुल गांधी के जम्मू से लौटने के बाद बुधवार को वैष्णो देवी यात्रा मार्ग पर गंगाजल छिड़कर ‘शुद्धिकरण’ किया था। भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष अरुण जम्वाल ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी और कांग्रेस के कार्यकर्ता वैष्णो देवी की यात्रा के दौरान अपने साथ पार्टी के झंडे लेकर आए और राजनीतिक नारेबाजी भी की। उन्होंने कहा कि इससे वैष्णो देवी धाम की पवित्रता का उल्लंघन हुआ है, इसलिए वे यात्रा ट्रैक का ‘शुद्धिकरण’ कर रहे हैं।

अरुण जम्वाल ने एक टीवी चैनल के साथ बात करते हुए कहा कि यह धाम एक पवित्र स्थान है, जहां हर समय केवल मां वैष्णो देवी के जयकारे ही गूंजते हैं। लेकिन, कांग्रेस सांसद राहुल गांधी और उनके साथ यात्रा में शामिल पार्टी कार्यकर्ताओं ने यहां आकर राजनीति की। उन्होंने अपनी पार्टी के झंडे लहराए और साथ ही सोनिया गांधी, प्रियंका गांधी के नाम लेकर नारे लगाए। इतना जरूर था कि युवा मोर्चा द्वारा किए गए इस कार्य के प्रति प्रदेश भाजपा के नेतागण चुप्पी साधे हुए हैं क्योंकि वैष्णो देवी यात्रा के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी ने किसी नेता की यात्रा के बाद गंगजल का छिड़काव कर यात्रा मार्ग के शुद्धिकरण करने का दावा किया हो।

जानकारी के लिए 9 सितंबर को राहुल गांधी वैष्णो देवी की यात्रा पर जम्मू के कटड़ा पहुंचे थे। इस दौरान राहुल गांधी ने धाम की 13 किमीर लंबी यात्रा पैदल तय कर वैष्णो देवी के दर्शन किए। यात्रा के बाद राहुल गांधी ने भवन में मुख्य पुजारी और आरती पुजारी से भी मुलाकात कर आशीर्वाद लिया। राहुल गांधी की यात्रा के दौरान कांग्रेस के कुछ अन्य नेता भी उनके साथ मौजूद थे। हालांकि राहुल गांधी ने मीडिया के साथ बातचीत में कहा था कि वे केवल वैष्णो देवी की यात्रा पर आए हैं और किसी तरह का राजनीतिक बयान नहीं देंगे। इस दौरान राहुल गांधी ने कहा कि कश्मीर आकर उन्हें अपने घर जैसा महसूस होता है, क्योंकि इस जगह से उनके परिवार को बहुत पुराना रिश्ता है।

error: Content is protected !!