शिमला उच्च न्यायालय के वकील ने दिया तीन तलाक; पत्नी ने दर्ज करवाई शिकायत

मुस्लिम महिलाओं के हित में तीन तलाक पर प्रतिबंध लगने के बाद भी राजधानी में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। एक मुस्लिम महिला को उसके पति ने तीन बार तलाक बोल कर घर से निकाल दिया है। इसके बाद महिला ने राज्य महिला आयोग में मामला दर्ज करवाया है और आयोग से न्याय की मांग की है। महिला का आरोप है कि उसके पति ने उन्हें तीन बार तलाक बोल कर तलाक दिया है, साथ ही तलाक के कागज भी बिना उनके साइन किए उन्हें थमा दिए। महिला ने बताया कि उनकी शादी को 24 साल हो गए हैं। इन 24 सालों में कई बार उनके पति ने उनके साथ मारपीट की है।

वीडियो रिपोर्ट

उन्होंने बताया कि बीते 12 जनवरी को जब वह मायके से अपने घर पहुंची तो दरवाजे में उनके पति ने उन्हें तीन तलाक बोलकर उनके हाथ में तलाक का कागज थमा दिया। इसके साथ उनके पति ने उन्हें मेहर के रूप में 20 हजार रुपए देकर घर से बाहर निकाल दिया। ऐसे में अब महिला बेबस होकर मस्जिद में रह रही है। पीड़िता ने राज्य महिला आयोग में इसकी शिकायत की है और पति से खर्च दिलाने की मांग की है, जिससे वह अपना गुजर बसर कर सके। इस दौरान महिला ने पुलिस में भी इसकी शिकायत की है। राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष डा. डेजी ठाकुर ने बताया कि मुस्लिम महिला ने उसके पति द्वारा उसे तीन तलाक देने का मामला आयोग में दर्ज किया गया है। मामले में कार्रवाई की जाएगी।

Please Share this news:
error: Content is protected !!