मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से की जल शक्ति मंत्री महेंद्र सिंह से इस्तीफा लेने की मांग


आम आदमी पार्टी हिमाचल प्रदेश ने सरकार पर मंत्री महेंद्र सिंह से इस्तीफा लेने के लिए दबाव बनाया हुआ है। प्रदेश के मंत्री ही अगर जनता की बात नहीं सुनेंगे तो जनता अपना दर्द किसे बताएगी। पार्टी के वरिष्ठ नेता विशाल राणा का कहना है कि जिस प्रकार यह मंत्री प्रचार के लिए दौड़े चले आते हैं वैसे ही अगर जनता की बात सुनने के लिए भी वक्त निकालते तो आज प्रदेश की जनता इस हालत में ना होती है।

मंत्री जी को यह याद रखना चाहिए कि हमारा देश एक लोकतांत्रिक देश है जिसमें प्रत्येक नागरिक को किसी भी मंत्री से सवाल पूछने का पूरा अधिकार है। महेंद्र सिंह के आचरण से साफ जाहिर होता है कि उन्हें जनता की समस्या सुनने में जरा भी दिलचस्पी नहीं है बल्कि अगर कोई युवा उनसे सवाल करे तो उनके तेवर ही अलग है इस प्रकार का आचरण एक लोकतांत्रिक देश के लिए घातक है ।

आम आदमी पार्टी की एक नेत्री अपूर्वा शर्मा का कहना है कि मंत्री जी ने जिस प्रकार से वहां उपस्थित युवाओं को अकड़ दिखाई है, उससे साफ जाहिर हो रहा है कि वे केवल वेतन और भत्तों में ही दिलचस्पी रखते हैं ना तो उन्हें जनता से कोई हमदर्दी है न ही वो जनता की समस्याएं सुलझाना चाहते हैं। अगर ऐसे ऐसे मंत्री विधानसभा में रहे तो जनता अपनी बात किसके समक्ष रख सकेगी। मुख्यमंत्री जी को विधानसभा की गरिमा को बनाए रखने के लिए तुरंत ऐसे अकड़ वाले मंत्री से इस्तीफा लेना चाहिए यदि मुख्यमंत्री ऐसे मौके पर भी मौन साध कर बैठे रहे तो यही समझा जाएगा कि उन्हें जनता की समस्याओं से कोई अंतर नहीं पड़ता।

सारा का सारा मंत्रिमंडल सत्ता के नशे में चूर है क्योंकि महेंद्र सिंह का आचरण अत्यंत निंदनीय है । यदि ऐसे मंत्री को बर्खास्त किया गया तो मुख्यमंत्री की पद की गरिमा के साथ-साथ अन्य मंत्रियों को यह संदेश भी जाएगा कि विधानसभा में उन्हें केवल जनता के काम करने के लिए ही बैठाया गया है यदि वे जन समस्याओं को नजरअंदाज करेंगे तो उन्हें विधानसभा में बैठने का कोई अधिकार नहीं है ।

गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी द्वारा मुख्यमंत्री जी से पत्र के माध्यम से भी मांग की जा चुकी है कि वे तुरंत अपने अकड़ वाले मंत्री से इस्तीफा ले जिसके उत्तर की प्रतीक्षा है ।

Please Share this news:
error: Content is protected !!