7th Pay Commission; कर्मचारियों के साथ विश्वासघात, 4600 से 2800 किया ग्रेड पे, मुख्यमंत्री के पास पहुंचा मामला

उत्तराखंड पुलिस बल के कई कर्मियों ने ग्रेड पे कटौती के चलते सहायक उपनिरीक्षक के पद के प्रस्ताव को ठुकरा दिया है। 20 साल की सेवा पूरी कर चुके कांस्टेबल व हेड कांस्टेबल ग्रेड पे कटौती से बेहद नाराज़ हैं और इनमें कुछ काला मास्क पहनकर विरोध भी जता रहे हैं हालांकि, पुलिस मुख्यालय के अफसर इससे इनकार कर रहे हैं।


RIGHT NEWS INDIA

Share this news:


पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने रविवार को एएनआई को बताया कि ग्रेड पे कटौती के चलते उत्तराखंड पुलिस बल के निचले रैंक के पुलिसकर्मी काफी नाराज़ हैं। उन्हें वेतन कटौती के बदले सहायक पुलिस उप-निरीक्षक के पद की पेशकश की जा रही है। उन्होने इसे खरोज कर दिया है। कुमार ने एएनआई को आगे बताया कि छठे वेतन आयोग में निचले रैंक के पुलिसकर्मी को 4600 का ग्रेड पे मिलता था। इसे अब सातवें वेतन आयोग में घटकर 2800 रुपये कर दिया गया है।

सरकार के इस फैसले से पुलिसकर्मियों को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है। डीजीपी ने कहा, “हमने उत्तराखंड सरकार को ग्रेड पे पर अपने फैसले को पूर्ववत करने का प्रस्ताव दिया है। मुख्यमंत्री को प्रस्ताव भेजा गया है जिस पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का आश्वासन दिया है।”

काले मास्क पहनकर विरोध प्रदर्शन किए जाने पर अशोक कुमार ने कहा “पुलिस अनुशासित फोर्स है। परेड के दौरान सभी को खाकी मास्क लगाना अनिवार्य होता है। अन्य दिन कौन किस रंग का मास्क लगाता है, इसके लिए अलग से कोई दिशा-निर्देश नहीं हैं। मीडिया के मार्फत काला मास्क लगाने की सूचनाएं मिली हैं।”

पुलिसकर्मियों की नाराजगी का संज्ञान लेते हुए, शीर्ष अधिकारियों ने उन पुलिस कर्मियों से एक बंद कमरे में बातचीत की, जो इससे प्रभावित हैं और 4600 ग्रेड वेतन नहीं मिलने की वजह से एएसआई के पद को ठुकरा कर रहे हैं। ग्रेड पे के मुद्दे पर पुलिसकर्मियों का स्मारथन करते हुए दो दर्जन से अधिक विधायकों ने उत्तराखंड सरकार को पत्र भी लिखा है।


Advertise with US: +1 (470) 977-6808 (WhatsApp Only)


Share this news to social media:

error: Content is protected !!