19400 छात्रों को जल्द मिलेंगे लैपटॉप, इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन ने शुरू की खरीद प्रक्रिया, कोरोना के कारण हुई है देरी

दो सालों से लैपटॉप का इंतजार कर रहे स्कूल व कालेज के मैरिट होल्डर्ज के लिए अच्छी खबर है।शिक्षा विभाग के आदेशों के बाद इलेक्ट्रॉनिक कॉरपोरेशन ने लैपटॉप खरीद प्रक्रिया शुरू कर दी है।

उच्च शिक्षा निदेशक अमरजीत शर्मा ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि दो साल से इंतजार कर रहे 19 हजार 400 मैरिट छात्रों को लैपटॉप दिए जाएंगे। इसमें 2018 से 2019 व 2019-2020 के तहत मैरिट के तहत आने वाले छात्रों को लैपटॉप दिए जाएंगे।

जुलाई के अंत तक लैपटॉप आबंटन करने का दावा किया जा रहा है। इसके साथ ही अगर स्कूल नहीं खुलते हैं, तो यह सुविधा छात्रों को घर पर पहुंचाई जाएगी।

बता दें कि प्रदेश में कोविड की वजह से स्कूल कालेजों में ऑनलाइन स्टडी ही चल रही है। अगर सरकार से लैपटॉप मिलते है, तो ऑनलाइन स्टडी में आने वाली बाधाएं भी दूर हो जानी थीं। फिलहाल कोविड की वजह से कई बार विभाग ने लैपटॉप खरीद प्रक्रिया को कैंसिल किया।

पहले लैपटॉप जैम पोर्टल पर खरीदने की बात की जा रही थी। ज्यादा खर्च आने की वजह से अब इलेक्ट्रोनिक कॉरपोरेशन ही इस प्रक्रिया को पूरा कर रहा है।

जानकारी के अनुसार लैपटॉप के अलावा कॉरपोरेशन दो परियोजाओं के लिए डिजिटल सामान खरीद रहा है। पहली योजना में 10वीं-12वीं कक्षा सहित कालेजों के 19 हजार से ज्यादा मेधावियों को लैपटॉप दिए जाने हैं।

दूसरी योजना में वर्चुअल पढ़ाई को 860 क्लासरूम सरकार ने डिजिटल बनाने का फैसला लिया है। छठी से जमा दो कक्षा वाले 418 सरकारी स्कूलों और 12 डाइट में दो-दो डिजिटल क्लासरूम बनाए जाने हैं।

इन सभी 860 कक्षाओं को राजधानी शिमला स्थित सेंट्रल स्टूडियो से जोड़ा जाएगा। इसमें सॉफ्टवेयर में विद्यार्थियों के लॉगइन आईडी बनाने का प्रावधान भी किया जाएगा।

error: Content is protected !!