न्यूजीलैंडी भेजने के नाम पर 14 लाख की धोखाधड़ी

न्यूजीलैंड भेजने के नाम पर 14 लाख रुपये की धोखाधड़ी करने के मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने एक दंपति को गिरफ्तार किया है।

पुलिस ने आरोपी दंपति सुनील वासी खैरी से 10 हजार रुपये बरामद करके दोनों को जेल भेज दिया है। पुलिस प्रवक्ता नरेश कुमार ने बताया कि 24 सितंबर को कैलाश शर्मा वासी माजरी (अंबाला) हाल वासी बजीदपुर कुरुक्षेत्र ने पुलिस को दी अपनी शिकायत में बताया कि सुनील कुमार ने अपनी पत्नी व अन्य एक महिला के साथ मिलकर नए बस स्टैंड के पास लोगों को विदेश भेजने का कार्यालय खोला हुआ था।

उसने एक महिला बिमला देवी व रामपाल के साथ मिलकर अपने-अपने बच्चों को 13 लाख रुपये में न्यूजीलैंड भेजने का सौदा तय किया था।

आरोपियों ने उनसे सभी पैसे एडवांस लेकर बदले में चेक देने का आश्वासन दिया था ताकि काम पूरा न होने पर चेक के माध्यम से पैसा वापिस निकाल सके।

28 दिसंबर 2019 को उसने साढ़े तीन लाख रुपये नकद देकर बदले में आरोपियों से 15 अप्रैल 2020 के दो चेक लिए थे।

इसी तरह बिमलादेवी व रामपाल ने भी सात लाख रुपये दिए थे, लेकिन कोई रसीद या चेक नहीं लिया था, क्योंकि आरोपियों की चेक बुक खत्म हो गई थी।

आरोपियों ने तीनों बच्चों के पासपोर्ट, आधारकार्ड व स्कूल सर्टिफिकेट लेकर जल्दी विदेश भेजने का आश्वासन दिया था। कुछ दिन बाद आरोपियों ने उनके बच्चों को न्यूजीलैंड न भेजकर थाईलैंड भेज दिया था।

यहां उनके बच्चों को उनकी सहयोगी महिला एजेंट मिली, जिसने उनसे प्रति बच्चे एक लाख 20 हजार रुपये कैश लेकर दो दिन में न्यूजीलैंड भेजने का आश्वासन दिया था।

एजेंट महिला वापस भारत आ गई, लेकिन उनके बच्चों को न्यूजीलैंड नहीं भेजा गया। जब उन्होंने उनके कार्यालय जाकर बात कि तो उन्होंने उनको कहा कि वह उनको विदेश नहीं भेज सकते और चेक से अपने पैसे निकाल लेना।

वहीं बकाया रकम नकद दी जाएगी, लेकिन उसके बाद भी कई बार उनसे पैसे मांगने पर भी उनके उनके पैसे नहीं दिए थे तथा जान से मारने की धमकी दी थी।

शिकायत पर थाना शहर थानेसर में मामला दर्ज करके जांच पुलिस चौकी सेक्टर-7 भेजी गई थी। मामले की जांच करते हुए पुलिस ने आरोपी सुनील व उसकी पत्नी को गिरफ्तार करके उनके कब्जे से 10 हजार रुपये बरामद करके जेल भेज दिया है।

error: Content is protected !!