सहपाठी को नही, अध्यापक को मारने के लिए 10वी का छात्र लाया था पिस्तौल

बुलंदशहर के शिकारपुर के सूरजभान सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में छात्र की हत्या के मामले में एक राज दफन किए जाने की सुगबुगाहट है। बताया गया कि आरोपी छात्र अपने सहपाठी की हत्या करने नहीं, बल्कि अपने क्लास टीचर की हत्या करने आया था। पढ़ें आखिर ऐसा क्या हो गया जो आरोपी छात्र टीचर का कत्ल करने के इरादे से लाया था बंदूक और कर दी अपने सहपाठी की हत्या…

वायरल हो रहे एक वीडियो में वारदात से एक दिन पूर्व छात्र की सीटी बजाने को लेकर हुई पिटाई के संबंध में एक अध्यापक पूरी जानकारी देते नजर आ रहे हैं। हालांकि, अधिकारी और स्कूल प्रशासन इस मामले में अभी चुप्पी साधे हुए हैं। गुरुवार को शिकारपुर के स्कूल में हुई वारदात दिल दहला देने वाली है। इस मामले में पुलिस का कहना है कि बुधवार को आरोपी छात्र और मृतक छात्र के बीच सीट पर बैठने को लेकर विवाद हुआ था। इसके चलते आरोपी ने गुरुवार को वारदात को अंजाम दिया। हालांकि, यह तथ्य झूठा नजर आ रहा है।

सामने आया है कि बुधवार को मृतक छात्र टारजन स्कूल ही नहीं गया था। जबकि, आरोपी छात्र बुधवार को स्कूल गया था। बुधवार को स्कूल में उसे सीटी बजाते हुए एक अध्यापक ने पकड़ लिया था। जिसके बाद क्लास टीचर ने आरोपी की पिटाई कर दी थी जिससे आरोपी क्षुब्ध था और बदला लेने की भावना उसके मन में उमड़ रही थी। इसी के चलते बृहस्पतिवार सुबह वह अपने चाचा की लाइसेंसी पिस्टल और कारतूस चोरी कर अपने बैग में रख कर ले आया था।

कक्षा में पहला पीरियड भी उक्त अध्यापक का ही सोशल स्टडी का था, जिन्होंने बुधवार को आरोपी की पिटाई की थी, लेकिन उस दौरान आरोपी वारदात को अंजाम नहीं दे सका था। उसके बाद दूसरा पीरियड गणित का था जिसे समाप्त होने के बाद वह अपनी सीट से उठ कर क्लास रूम और बाहर गैलरी में घूम रहा था और उक्त टीचर का इंतजार कर रहा था। जिस पर सहपाठी टारजन ने उससे बैठने के लिए कहा था, लेकिन गुस्से में आग बबूला आरोपी ने अपने सहपाठी टारजन से अभद्रता की और फिर बैग से पिस्टल निकाली और गोली मारकर मौत के घाट उतार दिया। हालांकि, पूरे मामले में अफसर और स्कूल प्रशासन चुप्पी साधे हुए हैं। एक वीडियो सामने आने पर इसकी पुष्टि हो रही है। उक्त वीडियो में जानकारी देने वाला स्कूल का ही एक अध्यापक बताया जा रहा है। 

बताया जा रहा है कि आरोपी छात्र वारदात से पहले बहुत ही गुस्से में था। वह कक्षा में बार-बार अपने सहपाठियों से बोल रहा था कि वह आज अध्यापक को मार देगा। लेकिन, अध्यापक के बजाए उसने अपने एक सहपाठी को ही मौत के घाट उतार दिया। 

Please Share this news:
error: Content is protected !!