दलित परिवारों पर जानलेवा हमला, उनके घर जलाए, पुलिस ने दो को किया गिरफ्तार

बिहार के पूर्णिया में एक हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है। नियामतपुर गांव में 100 से ज्यादा लोगों ने एक दलित परिवारों पर हमला कर दिया और उनके घरों को भी जला दिया। इस घटना में एक शख्स की जान जाने की भी खबर है। इस घटना के बाद बीजेपी नेता 23 मई को गांव में पीड़ित परिवारों से मिलने पहुंचे। उन्होंने दूसरे समुदाय लोगों पर हमले का आरोप लगाते हुए गिरफ्तारी की मांग की।

उन्होंने कहा कि जो भी इस घटना में दोषी है उसे जल्द सजा मिलनी चाहिए। खबर के मुताबिक पीड़ित परिवारों को प्रशासन की तरफ से सबखा अनाज और 9800 रिपये आर्थिक मदद दी गई है।

साथ ही उनके रहने और खाने की भी व्यवस्था की गई है। वहीं घटना में जान गंवाने वाले नेवीलाल के परिवार को सरकार की तरफ से 8.25 लाख की आर्थिक मदद भी दी जाएगी। फिलहाल 50 हजार रुपये दिए जा चुके हैं।

गांव में पुलिस फोर्स की तैनाती

बतादें कि कि प्रशासन को जैसे ही घटना की घटना की जानकारी मिली पुलिस की टीमों को तुरंत मौके पर भेज दिया गया। सुरक्षा को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स को तैनात किया गया है। यह घटना 19 मई की बताई जा रही है। खबर के मुताबिक रात के समय 100 से ज्यादा लोग अचानक दलितों के घर के बाहर इकट्ठा हो गए और परिवार के लोगों की जमकर पिटाई कर दी। भीड़ यहीं नहीं रुकी उन्होंने घरों को भी जला दिया।

इस घटना में नेवीलाल नाम के शख्स की जान जाने की खबर है। घटना के अगले दिन बैसी थाने में इस मामले में तीन FIR दर्ज की गई थीं। अब तक 2 आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है वहीं अन्य की तलाश की जा रही है। पुलिस लगातार छापेमारी कर आरोपियों की तलाश कर रही है। पुलिस के मुताबिक आरोपी और पीड़ित पक्ष एक ही गांव का रहने वाला है। जब कि सोशल मीडिया पर ये अफवाह फैलाई जा रही थी कि बाहरी लोगों ने इस घटना को अंजाम दिया है। जब कि ऐसा नहीं है।

Please Share this news:
error: Content is protected !!