सुजानपुर के विधायक व प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष राजेंद्र राणा ने कहा है कि कोरोना काल के बीच जिस तरह पूरे देश में स्वास्थ्य सुविधाओं के अभाव में हाहाकार मचा है, उससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत के हुक्मरानों की फजीहत हो रही है और दुनिया भर में यह संकेत गया है कि मोदी सरकार ने देश में स्वास्थ्य सुविधाएं बढ़ाने की बजाए राज हठ को प्राथमिकता दी है, जिससे देश में आज त्राहि-त्राहि मची है और ऑक्सीजन के अभाव में लोग तड़प तड़प कर दम तोड़ रहे हैं।

आज यहां जारी एक बयान में राजेंद्र राणा ने कहा कि मोदी शासन में देश की जीडीपी तो गिरी ही है और अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत की छवि एक ऐसे राष्ट्र की बन रही है जो कोरोना संकट के बीच ऑक्सीजन, वेंटिलेटर और जीवन रक्षक दवाइयों की आपूर्ति के लिए दुनिया के दूसरे देशों पर निर्भर हो गया है। उन्होंने कहा दुनिया के छोटे-छोटे देशों सहित करीब 40 मुल्कों ने जिस तरह भारत को मदद की पेशकश की है और जिस तरह अमेरिका ने भारत से अपने नागरिकों को स्वदेश लौटने को कहा है, उससे दुनिया में मोदी युग के दौरान भारत का तथाकथित डंका बजने के भाजपाइयों के दावे की हवा निकल गई है।

राजेंद्र राणा ने कहा है कि उत्तर प्रदेश में भाजपा के एक विधायक की कोरोना से मृत्यु होने पर उसके बेटे ने ही स्वास्थ्य तंत्र की पोल खोल दी है और यह कहते हुए अपनी पीड़ा जाहिर की है कि जब भाजपा विधायक को अपनी ही सरकार में स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो पाईं तो आम जनता की पीड़ा को कौन समझेगा। राजेंद्र राणा ने कहा कि उत्तर प्रदेश के दिवंगत भाजपा विधायक केसर सिंह गंगवार के बेटे विशाल गंगवार ने अपनी फेसबुक पर भाजपा सरकारों की बद इंतजामी को लेकर जो पीड़ा जाहिर की है, उसे मीडिया ने भी प्रमुखता से प्रकाशित किया है।

राजेंद्र राणा ने कहा कि मोदी सरकार सिर्फ डींगे हांकने वाली सरकार साबित हुई है जिसने अपने सत्ता काल के दौरान न केवल महंगाई को चरम पर पहुंचा दिया है बल्कि बेरोजगारी ने भी तमाम रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। उन्होंने कहा देश के स्वास्थ्य तंत्र को मजबूत करने के बजाय मोदी सरकार देश के कुछ औद्योगिक घरानों को लाभ पहुंचाने में ही अब तक लगी रही है। उन्होंने कहा विज्ञापनों और सुर्खियों में बने रहने के लिए मोदी सरकार आए दिन बड़ी-बड़ी घोषणाएं करती है लेकिन धरातल पर सब घोषणएं हवा-हवाई हो जाती हैं। उन्होंने कहा कि अब तो देश की शीर्ष अदालतों से भी सत्तारूढ़ दल को कड़ी फटकार सुननी पड़ रही है।

error: Content is protected !!