Right News

We Know, You Deserve the Truth…

कोरोना काल में कुल्लू के कसोल में बढ़े अवैध कब्जे, डीसी ने कहा, कब्जाधारियों को नही बख्शा जाएगा

सड़कें विकास की पहली सीढ़ी हैं, लेकिन शासन और प्रशासन की उदासीनता के चलते इन पर अतिक्रमण और कब्जों की मार पड़ रही है। कुल्लू जिले की मणिकर्ण घाटी के पर्यटनस्थल कसोल में इन दिनों कब्जों की भरमार हो गई है। कोरोनाकाल में कसोल स्थित नेचर पार्क के बाहर कुछ कब्जाधारियों ने सड़क किनारे कब्जा कर रातोंरात टीन के शेड भी तैयार कर दिए हैं।

स्पेशल एरिया डेवलपमेंट अथारिटी (साडा) के अधीन आते इस क्षेत्र में हर रोज धड़ाधड़ कब्जे किए जा रहे हैं। इसके बावजूद प्रशासन, टाउन एंड कंट्री प्लानिग विभाग और लोक निर्माण विभाग नींद से नहीं जाग रहा है। प्रशासन व विभाग की लापरवाही के कारण इन कब्जाधारियों के हौसले और बुलंद हो रहे हैं।

पहले नेचर पार्क के बाहर सड़क किनारे मोमो-चाउमिन की रेहड़ियां लगती थीं। कोरोनाकाल में उन रेहड़ियों के स्थान पर टीन के शेड बनाकर नियमों की सरेआम धज्जियां उड़ाई जा रही हैं। सड़क किनारे बने इन शेड में पर्यटक व अन्य लोग मोमो, चाउमिन खाने के लिए रुक रहे हैं। वाहन भी सड़क किनारे बेतरतीव तरीके से खड़े किए जा रहे हैं। इससे यहां यातायात जाम लग रहा है। सड़क के एक किनारे टीन के शैड जबकि वहीं आसपास दोनों ओर वाहनों के खड़े होने के कारण अन्य वाहन चालकों व राहगीरों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लिहाजा, पर्यटन स्थल कसोल में सड़क किनारे अवैध रूप से कब्जे हो रहे हैं, लेकिन विभाग इस बात से पूरी तरह से बेखबर है और इसका खामियाजा पर्यटकों व आम जनता को झेलना पड़ रहा है।

————

तहसीदार को वहां पर निरीक्षण के लिए भेजा जाएगा। कब्जाधारियों को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा। अवैध कब्जाधारियों पर प्रशासन पूरी नजर बनाए हुए है।

-डा. ऋचा वर्मा, उपायुक्त कुल्लू।


error: Content is protected !!