पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव को लेकर शनिवार को नामांकन का अंतिम दिन रहा। नामांकन के अंतिम दिन जिला परिषद, बीडीसी, पंचायत प्रधान, उपप्रधान और वार्ड पंच के सैकड़ों उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किए।

पंचायतीराज चुनावों में जहां जिला परिषद सीटों के लिए भाजपा और कांग्रेस के उम्मीदवारों ने नामांकन दाखिल किए हैं, वहीं अब शिवसेना भी मैदान में कूद पड़ी है। सभी राजनीतिक दल जहां अपनी-अपनी जीत का दावा कर रहे हैं, वहीं एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी शुरू हो गया है। नामांकन पत्र दाखिल करने के बाद उम्मीदवारों के साथ ही राजनीतिक दलों के बड़े नेताओं ने भी चुनाव प्रचार में ताकत झोंकना शुरू कर दिया है।

जिला में जिला परिषद के 17 वार्ड बनाए गए हैं। जिनमें भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर है। वहीं शिवसेना ने भी एकाएक कुछ वार्डों में अपने उम्मीदवार उतार कर सबको चकित कर दिया है। इसके साथ ही आम आदमी पार्टी ने भी राजनीतिक जमीन तलाशने के लिए पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव को साधन बनाया है और चुनावी मैदान में अपने प्रत्याशी उतारे हैं। पंचायतीराज चुनावों के लिए राजनीतिक दलों के बड़े नेता अपने अपने प्रत्याशियों को जीताने के लिए चुनाव मैदान में डट गए हैं।

नेता प्रतिपक्ष मुकेश अग्निहोत्री ने हरोली उपमंडल के जिला परिषद वार्डों में कांग्रेस समर्थित प्रत्याशियों के समर्थन में नुक्कड़ सभाएं कीं। मुकेश ने प्रदेश सरकार पर विकास के खोखले दावे करने के आरोप जड़े हैं। मुकेश ने कहा कि जिन मुद्दों को लेकर भाजपा सत्ता में आई थी, सरकार ने उसके उलट ही काम किए हैं। इसलिए 2022 में लोग कांग्रेस के साथ चलेंगे जिसकी लहर इन पंचायतीराज संस्थाओं के चुनावों से शुरू हो गई है।

भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता और औद्योगिक विकास निगम के उपाध्यक्ष राम कुमार ने नेता प्रतिपक्ष को आंखें खोल कर क्षेत्र का विकास देखने की चुनौती दी है। प्रो. राम कुमार ने कहा कि सीएम जयराम ठाकुर की कृपा दृष्टि से ही मुकेश अग्निहोत्री को नेता प्रतिपक्ष का दर्जा मिला है जबकि वह इसके काबिल भी नहीं थे।

इन चुनावों के जरिये शिवसेना ने भी हिमाचल में अपनी सियासी जमीन तलाशनी शुरू कर दी है। शिवसेना ने ऊना, कांगड़ा और पांवटा साहिब में अपने कई प्रत्याशी इन चुनावों में उतारे हैं। शिवसेना के कार्यकारी प्रदेशाध्यक्ष शिवदत्त वशिष्ट ने कहा कि प्रदेश सरकार की जनविरोधी नीतियों और क्षेत्र के विकास के मुद्दों को लेकर शिवसेना जनता के बीच जा रही है।

error: Content is protected !!