ये तस्वीरें हैं राजधानी शिमला के विकास की। जी हां, राजधानी शिमला से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर न्यू शिमला के साथ रझाणा पंचायत के सड़क की खस्ताहाल की ये तस्वीरें हैं। सरकार विकास के दावे तो कर रही है लेकिन तस्वीरें कुछ और ही हकीकत बयान कर रही हैं। 5 साल से सड़क की रिपेयर नहीं हुई है, जिससे सड़क की हालत बद से बदतर हो गई है।

रझाणा गांव शिमला से महज 10 किलोमीटर की दूरी पर है और सड़क की हालत बेहद खराब है। सड़क में गड्ढे है या गड्ढों में सड़क इस बात का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। पिछले 5 साल से सड़क की रिपेयर का काम नहीं हुआ है।ऐसे गांव के लोगों को गाड़ी में सफर करना तो मुश्किल है लेकिन पैदल चलना भी दूभर है।मरीजों को अस्पताल पहुंचाने और कर्मचारियों को दफ्तर और बच्चों को स्कूल जाने के लिए भारी परेशानी उठानी पड़ती है।

ऐसा भी नहीं है कि प्रशासन और नेताओं को लोगों की परेशानी जानकारी नहीं है।लोगों ने कई बार पीडब्ल्यूडी विभाग और सरकार के ध्यान में मामला लाया है लेकिन नेताओं के साथ साथ पीडब्ल्यूडी विभाग की सड़क की सुध नहीं ले रहा है।लोगों ने खुद कई बार गांव में पैसे एकत्र कर सड़क की मरम्मत करवाई है लेकिन सरकार दशा सुधारने के लिए प्रयास नहीं कर रही।लोगों ने सरकार से गुहार लगाई है कि सड़क को मरम्मत करके इसके दुरुस्त किया जाए।

प्रदेश सरकार दावे तो विकास के कर रही है लेकिन दूसरी तरफ राजधानी की तस्वीरें बेहद शर्मसार करने वाली हैं। अब देखना होगा कि सरकार कब जागती है और रझाणा गांव की दशा सुधारने के लिए काम कदम उठाती है।

error: Content is protected !!