जल शक्ति मंत्री के बयान से भड़के हिमाचल के अध्यापक संघ, शब्द वापिस नही लिए तो होगा प्रदर्शन

Read Time:5 Minute, 45 Second

Himachal News: हिमाचल प्रदेश स्कूल प्रवक्ता संघ ने प्रदेश के एक वरिष्ठ मंत्री द्वारा मंच से शिक्षकों के प्रति अपमानित करने वाले शब्दों की निंदा की है। मंत्री अपने बयानों को वापस ले नहीं तो सड़कों पर उतरना पड़ेगा। जारी बयान में संघ के प्रदेश अध्यक्ष केसर सिंह ठाकुर, महासचिव संजीव ठाकुर, संगठन सचिव राजेश सैणी, वित्त सचिव धीरज व्यास, प्रेस सचिव राजन शर्मा, चेयरमैन विनोद बन्याल पंजाब कॉर्डिनेशन कमेटी के चेयरमैन रजनीश राणा, उपप्रधान विकास रत्तन, वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेंद्र नेगी, ऊना जिला प्रधान संजीव पराशर, हमीरपुर के जिला उप प्रधान डॉ सुरेश कुमार, बिलासपुर के प्रधान नरेश ठाकुर, मंडी के जिला रंगीला ठाकुर, जिला शिमला के प्रधान लोकेंद्र नेगी जिला कांगड़ा के प्रधान राकेश भडवाल, चंबा के प्रधान दीप सिंह, सिरमौर के प्रधानं सुरेंद्र पुंडीर, सोलन के प्रधान चंद्र देव आदि ने रोष व्यक्त किया है।

उन्‍होंने कहा एक कार्यक्रम के दौरान मंत्री जी द्वारा शिक्षकों का उपहास निंदनीय है और इस प्रकार के शब्दों का प्रयोग जो सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों का विरोध करते हों इतने वरिष्ठ मंत्री को शोभा नहीं देता क्योंकि अध्यापकों को फ्रंट लाइन वर्कर सरकार ने घोषित किया था और यह मंत्रिमंडल का फैसला था। इसका अर्थ यह हुआ कि मंत्री इस फैसले से इत्तेफाक नहीं रखते। उन्हें सिर्फ अपने विभाग के सिवा कोई दूसरे विभाग के कर्मचारी कोरोना काल में काम करते नजर नहीं आते।

संघ के अध्यक्ष केसर सिंह ठाकुर ने बताया कि करोना वायरस के चलते पिछले वर्ष मार्च महीने से स्कूलों को बंद करना पड़ा था। लॉकडाउन के दौरान ऑनलाइन शिक्षा को प्रारम्भ किया गया था विभिन्न स्कूल व शिक्षक ज़ूम और माइक्रोसोफ्ट टीम जैसे प्लेटफॉर्म के ज़रिए क्लासेस ले रहे हैं. दीक्षा और स्वयं सिद्ध जैसे पोर्टलों पर कई भाषाओं में लेसन पढ़े जा रहे ! शिक्षकों के पास कम्प्यूटर, टेबलेट, प्रिंटर, राउटर जैसी चीजें उपलब्ध नहीं थीं इसके बाबजूद उन्होंने बिना किसी वित्तीय लाभ के अपने पैसों से इन चीजों को खरीद कर बच्चों को ऑन लाइन शिक्षा प्रदान की ताकि बच्चों की पढ़ाई बहुत बाधित हो।

नंबर एक स्थान पर रहा है हिमाचल यह भूल गए मंत्री

केसर सिंह ठाकुर ने बताया कोविड महामारी के दौरान शिक्षकों ने लाखों रुपये कोविड केयर्स फंड में डोनेट कर फ्रंटलाइन वर्कर के रूप में कार्य करते हुए प्रदेश भर में स्वास्थ्य विभाग के साथ कोविड जांच केंद्र, वैक्सीनेशन सेंटर और पुलिस प्रशासन के साथ बॉर्डर्स और विभिन्न स्थानों पर लगी जांच टीम में अपनी सेवाएं प्रदान की हैं और अभी भी जारी हैं। इसके साथ ही प्रदेश में बच्चों की शिक्षा प्रभावित न हो, इसलिए हर घर पाठशाला कार्यक्रम में सभी शिक्षक दिन रात मेहनत कर बच्चों को शिक्षा प्रदान कर रहे हैं। जिससे देशभर में हिमाचल प्रदेश शिक्षा के क्षेत्र में नंबर एक स्थान पर रहा है। प्रदेश में शिक्षण कार्य बंद नहीं होने दिया और अभी पूरे प्रदेश में शिक्षक बच्चों के साथ लाइव क्लासेज ऑनलाइन क्विज, ट्रेनिंग, लगाने के साथ-साथ दिन भर में सभी प्रकार के विभागीय कार्य कोविड ड्यूटी, चुनावी ड्यूटी, वोटर लिस्ट बनाने की ड्यूटी,बीएलओ ड्यूटी, पढ़ना लिखना अभियान सहित अनेक विभागीय कार्य शिक्षकों को ही सौंपे गए हैं। बावजूद इसके मंच से शिक्षक समाज पर तंज कसना मंत्री को शोभा नहीं देता है। इस बारे मंत्री को अपने शब्दों को वापस लेना चाहिए और हिमाचल स्कूल प्रवक्ता संघ इसकी घोर निंदा करता है और मंत्री से आशा करता है की वो शीघ्र अपने वक्तव्य पर खेद व्यक्त करगे अन्यथा प्रवक्ता संघ इस वक्तव्य पर रोष प्रकट करने के लिए सड़कों पर उतरने पर भी गुरेज नहीं करेगा।

error: Content is protected !!
Hi !
You can Send your news to us by WhatsApp
Send News!