प्रदेश में विद्युत उत्पादन की कुल क्षमता 27436 मेगावाट- राजेन्द्र गर्ग

0
31

बिलासपुर। जिला स्तरीय बिजली महोत्सव के समापन समारोह की अध्यक्षता करते हुए खाद्य नागरिक आपूर्ति मामले मन्त्री राजेन्द्र गर्ग ने आज शिवा बीएड कॉलेज घुमारवीं में कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव के  अन्तर्गत उज्जवल भारत-उज्जवल भविष्य के तहत बिजली महोत्सव का आयोजन 25 से 30 जुलाई तक किया गया जिसमें केन्द्र और प्रदेश सरकार की महत्वकाक्षीं योजनाओं और प्रमुख उपलब्धियों को उजागर करना था।
उन्होंने कहा कि पिछले 8 वर्षों में इस क्षेत्र में विशेष उपलब्धियां दर्ज करते हुए वर्ष 2014 में जहां उत्पादन क्षमता 248554 मेगावाट थी वहां आज बढ़कर 4 लाख मेगावाट हो गई है। आज हम अक्षय ऊर्जा स्त्रोतों से 163000 मेगावाट बिजली उत्पादन कर विदेशों को भी निर्यात कर रहे हैं। प्रदेश में विद्युत उत्पादन की कुल क्षमता 27436 मेगावाट है जिससे 10519 मेगावाट विद्युत स्त्रोतो का दोहन किया जा चुका है।

उन्होने कहा कि जिला बिलासपुर में सौभाग्य योजना में 361 लाभार्थियों को विद्युत कनेक्शन देने के लिए 10.47 लाख रूपये व्यय किए। रूफटाप सोलर प्लांट से जिला बिलासपुर में पिछले चार वित्तीय वर्षों में 54 घरेलू तथा 5 अदद ईकाईयों द्वारा सोलर प्लांट से 528 किलोवाट बिजली उत्पादन किया जा रहा है। जिला में कुल 59 अदद घरेलु उपभोक्ताओं को 1 करोड 35 लाख की सब्सीडी केन्द्र सरकार और 7 लाख की राज्य सरकार द्वारा दी जा चुकी है।

उन्होंने कहा कि हिमाचल बिजली राज्य बनकर देश के अन्य राज्यों के लिए बिजली प्रदान कर रहा है। उन्होने कहा कि हिमाचल में मुख्यमंत्री रोशनी योजना शुरू की गई है जिसमें गरीब परिवारों को मुफत बिजली कनेक्शन दिए गए हैं। इस योजना के अन्तर्गत बिलासपुर में 614 उपभोक्ताओं को कनेक्शन दिए गए है जिस पर 1600 रूपये प्रति उपभोक्ता उपदान देते हुए 9.82 लाख रूपये खर्च किए गए।

उन्होने कहा कि घुमारवीं विधान सभा क्षेत्र में साढे चार सालों में 45 से ज्यादा नए ट्रांस्फार्मर स्थापित किये गये और नसवाल मे 9 एमबीए क्षमता को बढाकर 13 एमबीए कर दिया है तथा घुमारवीं में 63 करोड की लागत से बनने वाले 132 केवी सब ट्रासफार्मर की स्वीकृति भी मिल चुकी है।
उन्होने लोगों को बिजली के महत्व का संदेश देते हुए बिजली बचाने का आग्रह तथा इसके उचित सदुपयोग पर बल दिया ताकि सबकी थोडी थोडी बचत देश और प्रदेश की उन्नति और प्रगति में काम आ सके।  

इस अवसर पर अधिशाषी अभियन्ता विद्युत पंकज शर्मा ने मुख्य तिथि को सम्मानित करते हुए कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधा देने के लिए दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अन्तर्गत 296.52 लाख रूपये तथा शहरी क्षेत्रों में उपभोक्ताओं को बेहतर सुविधा देने के लिए एकीकृत विद्युत विकास योजना के तहत 1013.30 लाख रूपये व्यय किए गए। जिला स्तरीय बिजली महोत्सव में 7 लाभार्थियों, पुरषोतम शर्मा, शशी पाल और अन्य ने प्रदेश सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से मिलने वाले लाभ के अनुभव को सांझा किया।

इस अवसर पर बिजली बचाने का संदेश देते हुए पटियाल मुजिकल ग्रुप घुमारवीं और अमरावती मुजिकल ग्रुप ने नुक्कड़ नाटक और नटराज कला सांस्कृतिक मंच ने भाषा एवं संस्कृति विभाग की ओर से लोक संस्कृति पर आधारित घट्ट नृत्य प्रस्तुत किया गया। इसके अतिरिक्त बिजली परियोजनाओं पर निर्मित की गई लघु फिल्में भी दिखाई गई। बैठक में नगर परिषद की अध्यक्षा रीता सहगल, पार्षद गण, एसडीएम घुमारवीं राजीव ठाकुर, डीजीएम, एसजीवीएन प्रवीण चौधरी, अधीशाषी अभियंता विद्युत मनोज पुरी, अधिशाषी अभियन्ता जल शाक्ति अरविन्द शर्मा, परियोजना अधिकारी हिमऊर्जा करतार सिंह, एमडी शिवा ग्रुप पुरषोतम शर्मा, प्रधानाचार्य शिवा बीएड कॉलेज सुनील शर्मा सहित अनेक लाभार्थी व गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

Leave a Reply