निजी विश्वविद्यालयों ने 80 फर्जी डिग्रियां दूसरे राज्यों में बेची, नियामक आयोग ने की एफआईआर दर्ज करने की मांग

0
42

शिमला। हिमाचल में चल रहे निजी विश्वविद्यालयों की फर्जी डिग्रियां बनाकर बेची गई हैं। सत्यापन के दौरान 80 डिग्रियां फर्जी मिलीं, जिन्हें दूसरे राज्यों में बेचा गया है। हिमाचल प्रदेश निजी शिक्षण संस्थान नियामक आयोग ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को पत्र लिखा है। कहा है कि संबंधित थाना में एफआइआर दर्ज करवाई जाए। भविष्य में यदि कोई और मामला आता है तो तुरंत एफआइआर करवाई जाए।

शिक्षा विभाग को भी पत्र जारी किया है। दोहरे सत्यापन (क्रास वेरिफिकेशन) के लिए डिग्रियां विभाग के पास भी आती हैं। आयोग विश्वविद्यालयों के नाम अभी सार्वजनिक नहीं कर रहा है। सोलन जिले में मानव भारती विश्वविद्यालय में सबसे पहले फर्जी डिग्री का मामला आया था। सरकार ने इस मामले की जांच के लिए एसआइटी गठित की है। मानव भारती विश्वविद्यालय की 41 हजार में से 36 हजार डिग्रियां फर्जी पाई गई थीं।

दलालों ने बनाई हैं डिग्रियां

आयोग के अध्यक्ष मेजर जनरल (सेवानिवृत्त) अतुल कौशिक ने कहा कि आयोग और विश्वविद्यालयों की जांच से लग रहा है कि डिग्रियां दलालों ने बेची हैं। अपने स्तर पर ही इन्हें बनाया गया है। असली डिग्री की कापी तैयार की गई है। पुलिस जांच में स्पष्ट हो जाएगा कि किस ने डिग्रियां बेची और कितने में सौदा हुआ था।

कैसे होती है वेरिफिकेशन

सरकारी विभाग, बोर्ड और निगम में नौकरी लगने के बाद डिग्री का सत्यापन करवाते हैैं। कुछ निजी कंपनियां भी डिग्री का सत्यापन करवाती हैं। इन डिग्रियों को विश्वविद्यालयों के पास सत्यापन के लिए भेजा गया। विश्वविद्यालयों के रिकार्ड से मिलान नहीं होने पर आयोग के पास मामला भेजा गया। इसी के आधार पर आयोग ने एफआइआर दर्ज कर जांच के लिए कहा है।

बीटेक कोर्स में प्रवेश के लिए आनलाइन होगी काउंसलिंग

हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय शिमला ने बीटेक कोर्स में प्रवेश के लिए आनलाइन काउंसलिंग का शेड्यूल जारी कर दिया है। विद्यार्थियों को आठ से लेकर 15 अगस्त तक आनलाइन फार्म जमा करवाना होगा। विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर फार्म और दस्तावेज अपलोड करने के बाद 16 और 17 अगस्त को दस्तावेजों की छंटनी होगी। 18 अगस्त को पहली मेरिट सूची जारी की जाएगी। चयनित उम्मीदवारों को फीस जमा करवाने के लिए दो दिन का समय दिया जाएगा। सीटें खाली रहने पर दूसरी मेरिट सूची 22 अगस्त को जारी की जाएगी। यूनिवर्सिटी इंस्टीट्यूट आफ टेक्नोलोजी के निदेशक प्रो. पीएल शर्मा ने बताया कि कोरोना के मामले बढऩे पर काउंसलिंग आनलाइन करने का निर्णय लिया है।

Leave a Reply