मोदी सरकार ने कम समय में हासिल किया शत-प्रतिशत विद्युतीकरण का लक्ष्य : नरेंद्र ठाकुर

0
38

हमीरपुर। आजादी के अमृत महोत्सव पर विद्युत, ऊर्जा व एसजेवीएनएल के तत्वावधान में ‘उज्जवल भारत उज्जवल भविष्य’ के अन्तर्गत हमीरपुर के बचत भवन में बिजली महोत्सव मनाया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए हमीरपुर विधानसभा क्षेत्र के विधायक नरेन्द्र ठाकुर ने कहा कि आजादी के 75 वर्ष पूर्ण होने पर देश ने विद्युत क्षेत्र में कई नए आयाम स्थापित किए हैं।  उन्होंने कहा कि आजादी मिलने से लेकर आज दिन तक लोगों के जीवन में काफी परिवर्तन आया है। पूर्व में जब बिजली नहीं होती थी तो काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता था। लैम्प और लालटेन से सभी दैनिक कार्य निपटाए जाते थे। लेकिन वर्तमान दौर में सभी कार्य बिजली पर ही निर्भर है। यदि 2 मिनट बिजली नहीं आए तो सभी कार्य ठप्प हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में हमें सभी दैनिक सुविधाएं बिजली के माध्यम से ही मिल रही हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के कुशल नेतृत्व में वर्ष 2018 में केवल 987 दिनों में देश ने शत्-प्रतिशत ग्रामीण विद्युतीकरण तथा 18 माह में शत्-प्रतिशत घरेलू विद्युतीकरण का लक्ष्य हासिल कर लिया। जिसे दुनियां के सबसे बड़े विद्युत अभियान के रूप में पहचान मिली। उन्होंने कहा कि पहले देश में औसतन 10-12 घंटे ही बिजली आती थी लेकिन अब 22-23 घंटे तक सुचारू रूप से बिजली रहती है। जिसका पूर्ण श्रेय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जाता है जिन्होंने हर घर तक बिजली पहुंचाने का कार्य किया है।

उन्होंने कहा कि माह अप्रैल से प्रदेश में 60 यूनिट से कम खपत वाले घरेलु उपभोक्ताओं को बिल में सौ प्रतिशत उपदान दिया गया। जिससे माह अप्रैल से जून तक की अवधि में जिला के 90 हजार विद्युत उपभोक्ताओं को जीरो बिल का लाभ मिला। उन्होंने कहा कि जुलाई माह से प्रदेश सरकार द्वारा 125 यूनिट से कम खपत वाले उपभोक्ताओं को भी बिल में सौ प्रतिशत उपदान की सुविधा दी गई है, जिसका लाभ भी उपभोक्ताओं को मिलेगा।  

इस अवसर पर विद्युत बोर्ड के अधीक्षण अभियंता राजेश कुमार ने मुख्य अतिथि सहित सभी मेहमानों का स्वागत किया तथा समारोह के आयोजन के महत्व के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने बताया कि आजादी का अमृत महोत्सव के तहत भारत सरकार के विद्युत मंत्रालय और नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय द्वारा उज्जवल भारत-उज्जवल भविष्य पहल के तहत देशभर में इस प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया गया, जिनका समापन शनिवार को हुआ।

अधीक्षण अभियंता ने बताया कि जिला हमीरपुर के ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को बेहतर सेवाएं देने के लिए दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के अंतर्गत 3 करोड़ 53 लाख रुपये, शहरी क्षेत्रों की एकीकृत विद्युत विकास योजना के अंतर्गत 4 करोड़ 31 लाख और सौभाग्य योजना के अंतर्गत 79.26 लाख रुपये खर्च किए गए। ग्रामीण क्षेत्रों में कम वोल्टेज की समस्या से निजात दिलाने के लिए 2 करोड़ 90 लाख रुपये खर्च किए गए हैं। मुख्यमंत्री रोशनी योजना के तहत जिला के 1657 उपभोक्ताओं को निशुल्क कनेक्शन प्रदान करने के लिए लगभग 50 लाख रुपये खर्च किए हैं।

कार्यक्रम के दौरान एनटीपीसी, पीजीसीएल तथा एसईसीआई द्वारा विद्युत उत्पादन के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों के विषय में भी लघु फिल्में दिखाई गई। कार्यक्रम में सूचना एवं जनसंपर्क विभाग की ओर से त्रिवेणी कला मंच के कलाकारों ने ऊर्जा संरक्षण तथा सौर ऊर्जा उत्पादन के विषय में लघु नाटकों के माध्यम से मनोरंजक एवं ज्ञानवर्धक जानकारी प्रदान की तथा लोक कलाकारों ने सुंदर लोकनृत्य प्रस्तुत किया।

इस अवसर पर एसडीएम मनीष सोनी ने कहा कि जलविद्युत के क्षेत्र में हिमाचल प्रदेश अग्रणी राज्य बनकर उभरा है। अपनी जरुरतें पूरी करने के साथ-साथ हिमाचल अन्य राज्यों को भी बिजली दे रहा है। अब सरकार सौर ऊर्जा के अधिक से अधिक दोहन पर विशेष बल दे रही है। उन्होंने कहा कि 75 वर्षों के दौरान विद्युत क्षेत्र में जो विकास कार्य किए गए हैं, उन्हें ‘उज्जवल भारत उज्जवल भविष्य’ कार्यक्रम के माध्यम से दिखाया गया।

इस अवसर पर भाजपा मंडलाध्यक्ष रमेश शर्मा, महामंत्री सुरेश सोनी,  धौलासिद्ध जलविद्युत परियोजना के परियोजना प्रमुख परविंद्र अवस्थी, एसजेवीएनएल के डीजीएम कृष्ण कुमार, नगर परिषद अध्यक्ष मनोज मिन्हास, अन्य पार्षद, हिम ऊर्जा के जेई अरुण भारद्वाज, बिजली बोर्ड तथा ऊर्जा विभाग की विभिन्न योजनाओं के लाभार्थी तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply